12

06 Mar 2018 #Love and Relationships

लड़की जात बेवफ़ा क्यों है - टाइप 1 जब भी ब्रेक अप होता है तो लड़का और लड़की दोनों के अपने कारण होते हैं । जहां लड़की का ब्रेकअप के बाद का जो दुःख होगा बड़ा स्ट्रेट होगा, वहीँ लड़के से पूछो तो ब्लेंक । लड़की ने रिलेशनशिप में चाहे जितनी बार इमोशनल ब्लैकमेल किया हो पर खत्म होते ही वो यह ड्रामा बन्द करती है पर वहीँ से लड़के शुरू करते हैं, दारु के संग गाडी पर खड़े हो कर चिल्लाते हैं " स्साला लड़की जात ही बेवफ़ा है " !! समय में थोड़ा पीछे चलते हैं तो लड़की की ओर से ब्रेकअप का प्राइम कारण था, घर की इज़्ज़त !! इस पर लड़के भी थोड़े डिग्नीफाय होते पर दिमाग में रहता, मेले छात बेवफाई हुई है !! फिर समय बदला लड़कियां आगे बढ़ी, बाहर निकलीं, दुनिया देखी, उनकी प्रायोरिटीज़ बदली, फिर आप मिले, लगा कुछ मैच, हो गए अट्रेक्ट ! पर चूँकि लड़की का मन लड़कों से ज्यादा सोचता है, भावुक होता है तो उसे पहले रियलाइज होता है कि चीजें वर्कआउट नहीं कर रहीं, ऐसे नही चलेगा, पर उसे यह कहने में देर हो जाती है, क्योंकि वो बार बार सेल्फ एनालाइज करती रहती है कि गलत तो नही कर रही आपके साथ, कई बार उसका पुरुषों की तरह खटाक न होना उसके आड़े आता है, उसे लगता है कि किसी तरह वो इस रिलेशन को निभा ले जाए क्योंकि बचपन से वो औरतों को निभाता देखती आयी है, कितनी बार वो खुद को ही इमोशनल ब्लैकमेल करती है रुकने के लिए ताकि साथी को दुःख न दे बैठे वो ! इसी क्रॉस चेकिंग में वो देर करती रहती है, अपना फैसला सुनाने में ! पर यह फैसला सुनाने की सहूलियत पुरुषों को रही है, तो नतीजा और देर ! ऐसा नहीं है कि उसके मन में ख्याल नहीं आता कि कहीं वो 'बेवफा' तो नहीं !! पर इतना भावुक होते हुए भी प्रैक्टिकल थिंकर होती हैं लड़कियां, जो समझ लेती हैं कि इस प्यार के प्रोपेगंडा में उनको निबाह ही करना होगा, प्यार तो गायब हो चुका । आज की लड़कियां कतई फिल्मों से प्रेरित नहीं है और जो बची हुई हैं उनको भी अक्ल आ ही जायेगी । लड़के भी कई दफा जानते हैं कि नहीं पटेगी पर बना के रखना हैं क्योंकि प्यार का गाना गाने की गन्दी आदत जो लगी होती है, अब अगर लड़की छोड़ गयी तो रुसवाई होगी ! तीसरी बात लड़कियां आज भी इज़्ज़त का कटोरा हैं तो उन्हें भी लगता है कि इस गधे के लिए घर वालों से झगड़ा, न, न, न !! चौथी बात शादी करके जो बन्धन औरत के लिए होते हैं वो पुरुष पर उतने सख्त नही होते, तो लड़की जानती है कि उसे जो एक मौक़ा मिला है अपना साथी ढूंढने का उसे वेस्ट न कर दे !! पांचवी सबसे जरूरी बात, लड़का और लड़की किसी भी रूप में रहे लेकिन वो हैं एसेट ही (कड़वी बात न, पर मान लो) पुरुषवादी समाज है तो वो लड़की की सुंदरता सुघड़ता को एसेट मानता है पर लड़की, पुरुष की सुंदरता के अलावा बहुत सारे गुणों से प्रभावित होती है । प्रेम घटित होता है पर उस घटना को मात्र एक घटना बनाने से बचना चाहिए । वो निरन्तर घटित होता रहे, इसलिये एफर्ट्स लगते हैं । लड़के सारा एफर्ट लड़की पटाने में ही निकाल देते हैं बाद में कुछ बेलौस हो जाते हैं जैसे किला फतह कर लिया अब क्या डर !! जब आप घोषणा करते हो कि लड़की जात बेवफा है, उसी पल लड़की को सही साबित कर देते हो कि यह (लता की आवाज़ में) यह प्यार था कि कुछ और था !! तो लड़की जात इसलिए बेवफा होती है !!

-By ThatMate