MMS, Sex Chat, nude तस्वीरों के कारण ब्लॅकमेल होने पर क्या करें ?

06 Mar 2018 #Sex Education

हमारे समाज की बनावट कुछ ऐसी है कि परिवार का नाम लड़के भी उठाते-डुबाते हैं, पर जब "घर की इज्जत" का टेंडर निकलता है तो मुख्य दावेदार हम लड़कियों को ही माना जाता है(बिना हम से पूछे)। इसके कई प्रत्यक्ष/अप्रत्यक्ष प्रभाव है पर मैं यहाँ एक बात पर फोकस करूँगी- ब्लैकमेल।आपने अपने जीवन में कई घटनाएँ पढ़ी-सुनी होंगी जब किसी पुराने आशिक के ब्लैकमेलिंग से तंग आकर लड़की जान तक दे देती है। And I am very sure कि आप ऐसी कुछ घटनाओं के करीबी साक्षी भी रहें होंगे।जब कोई दो व्यक्ति रिलेशनशिप में होते है तो कुछ तस्वीरों की अदला-बदली होती है, कुछ मसालेदार स्क्रीनशॉट बनने लायक बातचीत होती है, और हर कपल के बीच होती है।पर जिस पार्टनर पर आपने भरोसा किया वह हद दर्जे का लुच्चा निकला तो?? ऐसे में जिंदगी अचानक नर्क से बदतर लगने लगती है।भरोसा टूटने और बदनामी की दोहरी मार झेलना मुश्किल है,नामुमकिन नहीं।अगर आप ऐसे किसी दौर से गुजर रही हो और दिमाग काम करना बन्द कर रहा हो तो जिंदगी वापस पटरी पर लाने के लिए इन बातों पर ध्यान दें 1. सबसे पहले तो रोते-धोते हुए माँ-बाप के चरणों में लोट जाये।वो खुश नहीं होंगे और शायद आपको दो-चार चप्पल भी लगाये, पर ऐसे नाजुक समय में पैरेंट्स के लात-घूंसे आशीर्वाद समझ कर ग्रहण करें बिना चूँ-चा किये।उनसे अपनी समस्या छुपाइये मत।याद रखियेगा, अपने देश के 90% माँ-बाप की बीपी बढ़ जाती है बेटी के प्रेम- प्रसंग सुन कर पर 95% माँ-बाप वैसे होते है जो अपने बच्चे पर मुसीबत आने से पहले अपनी जान लगा देंगे। 2.सलाह-मशवरा के लिए ऐसे किसी दोस्त के पास तो भूलकर भी ना जाये जिनकी पुलिस,कोर्ट, मुकदमा, कट्टा,ब्लैकमेलिंग जैसे शब्द सुनते ही फटती हो।होगा यूँ कि वो पिछले तिन सौ साल के "सनकी आशिक के बदले का अंजाम" पर सारी केस हिस्ट्री निकाल कर आपके सामने पटक देंगे और जो लड़का अभी तक आपको बस आले दर्जे का कमीना लग रहा था, वह कोलम्बिया के माफिया का सगा भाई लगेगा।मने आप जायेंगी anxiety में और वापस आयेंगी suicidal होकर। 3. चुप बिल्कुल ना रहें।अपने दोस्तों को बतायें।कुछ पुरुष मित्रों को तो जरूर बताएं।होता यूँ है कि हम लड़कियाँ होती हैं थोड़ी मुलायम दिल; मार-पीट, हल्ले-हंगामे से दूर।ऐसे में जब सामने वाला कहता है-तेरे साथ फलाना-ढिमाका कर दूँगा, तो हम अक्सर उनकी बातों में आकर उनके चार पैसे की औकात को एक रुपया जोड़ लेती हैं।ऐसे में किसी लड़के से निबटने के लिये लड़को का अनुभव और ज्ञान बड़ा काम आता है, क्यूकी एक हारा हुआ आशिक कितना फेंकता है यह एक लड़के से ज्यादा अच्छा आपको कोई नहीं बताएगा ।वैसे भी अगर लाठी चलाने की नौबत आ गयी तो आपकी अपनी सेना भी तो होनी चाहिए? 4.कभी भी प्यार-मोहब्बत के चक्कर में दोस्तों को नजरअंदाज ना करें।यह सबसे common mistake है जो मैंने लोगों को करतें देखा है।आठ घण्टे फोन पर लगे रहेंगे पर महीने में एक बार अपने पुराने साथी से मिलने नहीं जाएंगे।अवसाद के लिए "दोस्ती" से ज्यादा अच्छी मनोवैज्ञानिक थेरेपी अभी पैदा हुई नहीं है।तो ऐसे कुछ दोस्त जरूर कमायें जो बुरे समय में आपके साथ हो। **** अब इन तमाम बातों के बाद अगर आपका MMS मार्केट में उतर ही आया तो?? तो पाँच बातें गांठ बाँध लीजिये- 1.आपकी दुनिया खत्म नहीं हुई है।"पब्लिक की मेमोरी बड़ी कमजोर होती है", यह प्योर राजनितिक लाइन है लेकिन बिल्कुल सच्ची।याद है क्या आपको DPS वाली लड़की का नाम या चेहरा जिसकी MMS देश के हर न्यूज चैनल पर प्राइम टाइम की बहस बन गयी थी? वक्त हर जख्म भर देता है इसलिए घबराहट में बौखला कर खुद को क्षति ना पहुँचा बैठे। 2. एक बात तो दिमाग में फिट कर लें,"हमारे देश का समाज औरतों के लिए बुरा हैं, कानून मर्दों के लिये"।इस देश ने औरतों को इतनी ताकत दी है कि अगर एक औरत यहाँ ताल ठोककर मैदान में उतर आयें तो इंद्र का सिंहासन काँपता है और यमराज का भैंसा भी पूँछ उठाकर भागता है। 3.अब जब आप दुनिया के सामने नंगी हो ही गयी है तो लाज-शर्म को उठा कर पटकियें एक तरफ और आ जाइये सोशल मिडिया पर। हर सेलेब्रेटी ट्विटर एकाउंट से लेकर fb तक पर मदद की गुहार लगाइये।कोई तो आप पर ध्यान देगा, इतने पर बात ना बने तो बहुत सरकारी ऑफिस है।जमा दीजिये धरना।उस कमीने को अब छोड़ना नहीं है। 4.अब तक आपको 'रण्डी' साबित किया जा चूका होगा।इस शब्द के डर से छुपीये मत।जब कोई आपकी रण्डी का सर्टिफिकेट बांटता है तो वो automatically आपको authority दे चूका होता है उसके so- called मर्दानगी की सर्टिफिकेट का।पर हम लड़कियाँ इतना घबरा जाती है कि यह बात दिमाग में आती ही नहीं। शब्दों का महत्व तभी तक है जब तक आप पर उसका असर। 5.सबसे जरूरी बात- हमारें देश में कमियाँ जरूर है, पर यह मरा नहीं है।आज भी यहाँ ऐसे तमाम लोग है जो एक औरत की मदद के लिये खुद को खतरे में डाल देतें हैं,तमाम लड़कियां है जो आपके लिए जंतर-मन्तर पर लाठी खायेंगी, तमाम लड़के है जो आपको बहन मान कर आपके लिये बड़ी से बड़ी मुसीबत से भीड़ जायेंगे।समाज को साथ लेकर चलें और इसपर थोड़ा भरोसा रखे।आप आवाज लगाइयेगा, वादा है हम आपके पीछे खड़े मिलेंगे। तो बस don't give up. और बाकियों से कहूँगी कि अगर ऐसा कुछ देखने को मिले तो कम से कम भावनात्मक सपोर्ट जरूर दें।हो सकता है वह लड़की बहुत बड़ी बेवकूफी कर गयी हो लेकिन उसका सेक्स चैट और न्यूड तस्वीर भी भरोसे की वजह से था और भरोसा करने के लिए कोई भी इंसान ब्लैकमेल होना डिजर्व नहीं करता। Megha Maitrey: A psychology student from Bihar.., doing my graduation..a writer in making..and a thinker!