Category Archives: #trumpthetaboo

Let’s analyze!!

Image result for Obsessive compulsive disorder analyze

Not all those who know the rules of a game can play the game. Similarly, knowing about OCD is different and analyzing and understanding its symptoms is different.

Occurrence of an image or a thought repetitively out of a person’s control is obsession but thinking occasionally about getting sickness or safety is not.

Repetitively performing time consuming activities can be a compulsion but practicing bedtime routine or religious activities is not.

Similarly, there are many different activities which are/ are not a symptom of OCD. Let’s brief them so as to understand the disease.

OBSESSIONS:

  • Thoughts, images, or impulses that occur over and over again and feel out of the person’s control.
  • The person does not want to have these ideas.
  • He or she finds them disturbing and unwanted, and usually knows that they don’t make sense.
  • They come with uncomfortable feelings, such as fear, disgust, doubt, or a feeling that things have to be done in a way that is “just right.”
  • They take a lot of time and get in the way of important activities the person values (socializing, working, going to school, etc.).

NOT OBSESSIONS:

  • It is normal to have occasional thoughts about getting sick or about the safety of loved ones.

COMPULSIONS:

  • Repetitive behaviors or thoughts that a person engages in to neutralize, counteract, or make their obsessions go away.
  • People with OCD realize this is only a temporary solution, but without a better way to cope they rely on the compulsion as a temporary escape.
  • Can also include avoiding situations that trigger their obsessions.
  • Time consuming and get in the way of important activities the person values (socializing, working, going to school, etc.).

NOT COMPULSIONS:

  • Not all repetitive behaviours or “rituals” are compulsions. Bedtime routines, religious practices, and learning a new skill involve repeating an activity over and over again, but are a welcome part of daily life.
  • Behaviours depend on the context: Arranging and ordering DVDs for eight hours a day isn’t a compulsion if the person works in a video store.

 

The descriptive analysis done here may help you to know if a person is suffering from OCD.
No cure can be started before diagnosing the disease and hence to diagnose or cure OCD, along with patience and methods to diagnose, a deep study and understanding of the mentioned disorder is required.

 

Gender Dysphoria (Gender Identity Disorder)

Aditya to Aditi: ‘A woman soul trapped in man’s body…’

It was another busy OPD day. Last client… “Good Evening Aditya (Name changed)! How can I help you my friend”.   Aditya broke down into tears. “Doctor, I want to end my life. I feel my life is not worth living”.  I passed on a glass of water to Aditya and was waiting for him to ventilate his feelings. Aditya spoke, “I am not happy being a man. I feel, I am a woman soul trapped in a man’s body. I belong to a small town from interiors of Maharashtra. Nobody understands what I am going through… please let me die.”

9723a890762e36e79b2ae5aa855efdac

Aditya was a young male client who was suffering from Gender Dysphoria (Gender Identity Disorder). He was uncomfortable with his biological male gender role since childhood.  On inquiry, He always disliked dressing male clothes. As he grew up into adolescence, his distress about being male increased. Aditya was not comfortable with the change in his voice and mustache. He expressed his feelings to his parents but parents turned deaf ear to his plea… He joined classical dance classes and started developing interest in cooking. His anxiety decreased being into this female gender roles. One day he expressed wish to change his sex by undergoing sex re-assignment surgery to his family members. He could not convince his family and was out caste from the community.

Diagnostic and Statistical Manual of Mental Disorder 5 (DSM 5) describes Gender Dysphoria (earlier known as Gender Identity Disorder) as ‘a definite mismatch between the assigned gender and experienced/expressed gender for at least 6 months duration as characterized by at least two or more of the following features –

1.    Mismatch between experienced or expressed gender and gender manifested by primary and/or secondary sex characteristics at puberty

2.    Persistent desire to rid oneself of the primary or secondary sexual characteristics of the biological sex at puberty.

3.    Strong desire to possess the primary and/or secondary sex characteristics of the other gender

4.    Desire to belong to the other gender

5.    Desire to be treated as the other gender

6.    Strong feeling or conviction that he or she is reacting or feeling in accordance with the identified gender.

Published prevalence of gender dysphoria range from 1.9 to 4.72 per 100000 populationwith a male to female ratio of 3:1. (1) Number of people diagnosed with this condition is increasing due to increasing awareness among population. Christine Jorgensen was the first person to become widely known in the United States for having sex reassignment surgery in 1951. In 2015, is an American television personality and retired Olympic gold medal-winning decathlete made headlines and appeared on Vanity fair magazine for her transformation from Bruce Jenner to Caitlyn Jenner.

caitlin-jenner-media-strategy
Gender dysphoria involves a conflict between a person’s physical or biological gender and the gender with which they identify. People with gender dysphoria may be very uncomfortable with the gender they were assigned, sometimes described as being uncomfortable with their body (particularly developments during puberty) or being uncomfortable with the expected roles of their assigned gender. Often other people do not understand the wish to be of another gender, and this can cause difficulties in relationships with friends and family. It may cause stressanxiety or depression. Gender dysphoria is associated with high levels of stigmatization, discrimination and victimization, contributing to negative self-image and increased rates of other mental disorders.

A person has to undergo Real Life Experience (RLE) i.e. living life of opposite desired sex for a period of 1 year so he/she does not regret the decision of sex change in later life. Sex reassignment surgery, hormonal replacement therapy, speech therapy, skin and hair treatment are the treatment available after evaluation and treatment by a psychiatrist. Primary as well as secondary mental disorders needs to be ruled out by a psychiatrist before undergoing above irreversible treatments.

Dr. Chetan Vispute

The eunuch!

Laxmi_Narayan_Tripathi_at_JLF_Melbourne_presented_by_Melbourne_Writers_Festival,_Federation_Square,_Melbourne_2017

बात इतनी कुछ ख़ास नहीं थी लेकिन आज ये बात बहुत ख़ास सी लग रही है।बात 21 मार्च 2016 की है,मैं प्रतापगढ़ से दिल्ली वापिस आने के लिए पद्मावत एक्सप्रेस में बैठी थी।थक कर चूर थी क्योंकि उसी सुबह मैं पूरे बारह घंटे की यात्रा के बाद प्रतापगढ़ पहुंची थी और उसी शाम मुझे दिल्ली के लिये वापिस यात्रा करनी थी।प्रातपगढ़ में 8 घंटे रहने पर भी मुझे खाना खाने का समय नहीं मिला और बिना कुछ खाये ही वापसी हुई।साथ में कुछ फल (सेब, अंगूर, संतरे,अनार)थे जो कि बुआ जी ने दिए थे।मैं अपनी सीट पर बैठी उन्हें खा रही थी। एक बेहद बुलंद सी आवाज़ आई “ला राजा, निकाल बाबू” मेरे लिए बेहद अनोखी बात थी ये।मैं थोड़ा झुककर देखने लगी।पता चला कि कोई किन्नर है जो लोगों (यात्रियों) से पैसे मांग रही है।शायद ये मेरे अब तक के जीवन में देखी गयी सबसे सुन्दर किन्नर थी।गज़ब का आकर्षण था उनमे।गेहुंए रंग की थी वो, उनके सफ़ेद सूती कुरते पर सफ़ेद मोतियों से हुई कारीगरी और प्लाजो,सफ़ेद फ्लैट चप्पल,कान में बड़ी बड़ी सिल्वर बालियां, रिबाउंडिंग किये हुए बाल, गले में मोती की माला और हाथ में एक क्लच, बाप रे उनके आगे अच्छी से अच्छी सुंदरियाँ भी लज्जा खाएं।वो मेरे सामने खड़ी थी, मुझसे रहा नहीं गया और जैसे ही मेरी और उनकी नज़र एक हुई मैं बोल पड़ी “आप बहुत सुन्दर हो” जवाब में उन्होंने कहा “थैंक यू” मैंने कहा “सेब खायेंगी?” उन्होंने कहा “न, तू खा” मैंने कहा “लीजिये न” उन्होंने सेब लिए, मैं थोड़ा सरकी और उनको बैठने का इशारा किया वो बैठी।फिर मैंने कहा “आपका सूट बहुत प्यारा है” वो हंसी, मुस्कुराती रही, मैंने कहा “संतरा भी लीजिये” उन्होंने कहा “न गुड़िया, तू खा, अपन को कौन ऐसे कुछ खाने को पूछता है? तूने प्यार से सेब खिलाया, चार बात की, तू बहुत तरक्की कर…..” इसी तरह की शुभकामनाएं करती, मुझे आशीर्वाद देती वो उठी और फिर चली गयी। पिताजी मुझे घूर रहे थे, मेरा ये व्यवहार उनके लिए सरलता से हज़म कर लेने वाला नहीं था। आज जब मम्मी से इस बारे में ज़िक्र कर रही थी तो उनकी (किन्नर) बातों में छुपी वेदना महसूस हो रही है, कि कोई उन्हें वो सम्मान नहीं देता जिस सम्मान का हक़दार हर मनुष्य हर जीव है। मानवीय व्यवहार के नियमानुसार ये बातें बेहद सामान्य सी हैं किसीको भोजन और पानी के लिए पूछना, किसीकी प्रसंशा करना, किसी के साथ प्रेम से बात करना।लेकिन हमारे ही व्यवहार की कठोरता ने इस सामान्य व्यवहार को भी कितनी विशिष्ट श्रेणी का बना दिया है।

Medini Pandey

Menstruation and Women

ऋषि पंचमी व्रत के अनुसार “शास्त्रों में लिखा है कि रजस्वला स्त्री पहले दिन चंडालिनी, दूसरे दिन ब्रह्म हत्यारनी, तीसरे दिन पवित्र धोबिन के समान होती है।” ये कौन से शास्त्र हैं जो स्त्री को उपरोक्त उपमाएं देकर उसका अपमान कर रहे हैं? क्या है ऋषि पंचमी व्रत और इसका उद्देश्य क्या है? वास्तव में हिन्दू धर्म में वर्णित ऋषि पंचमी व्रत का उद्देश्य है मासिक धर्म के समय स्त्री पर लगे पाप से छुटकारा पाना, ये व्रत स्त्रियों द्वारा भाद्रपद शुक्ल पक्ष पंचमी को किया जाता है। 21वीं सदी में रजोधर्म को पाप-पुण्य से जोड़ना कितना पिछड़ा और अप्रासंगिक लगता है लेकिन वास्तविकता ये है कि अधिकांश भारतीय समाज में आज भी ऐसी रूढ़िवादी परम्पराओं का बड़ी निष्ठा से पालन किया जाता है। उन परम्पराओं में सभी बातें पूर्णतः नकारात्मक नहीं हैं। कुछेक बातें स्त्री, स्वास्थ्य या आराम से सम्बंधित भी हैं।

PMS1

उदाहरण के लिए हम ऋषि पंचमी व्रत कथा को लेते हैं जिसका संक्षिप्त वर्णन इस प्रकार है- “एक समय विदर्भ देश में एक ब्राह्मण अपनी स्त्री तथा पुत्र-पुत्री के साथ रहता था। पुत्री विधवा थी। एक बार वह एक शिला पर लेटी आराम कर रही थी कि उसके शरीर में कीड़े पड़ गए। यह सब ब्राह्मण ने देखा और इसका कारण पता लगाया तो ज्ञात हुआ कि पूर्व जन्म में इसने रजस्वला होते हुए भी घर के बर्तन आदि छू कर पाप किया था।” यह कथा भगवान कृष्ण ने युधिष्ठिर को सुनाई थी। जो स्त्री रजस्वला होते हुए भी घर के काम करती है वो नरक को जाती है। पूर्व जन्म में वृजासुर का वध करने के कारण इन्द्र को ब्रह्म हत्या का महान पाप लगा था। उस समय ब्रह्मा जी ने उस पर कृपा करके उस पाप को चार स्थानों में बांट दिया था यथा- यथा अग्नि (धूम से मिश्रित प्रथम ज्वाला), नदियों (वर्षाकाल के पंकिल जल), पर्वतों (जहाँ गोंद वाले वृक्ष उगते हैं) में तथा स्त्रियों (रजस्वला) में। अत: मासिक धर्म के समय लगे पाप से छुटकारा पाने के लिए यह व्रत स्त्रियों द्वारा किया जाना चाहिए। इस कहानी में हमें एक सकारात्मक बात यह देखने को मिलती है कि संभवतः ये परम्पराएं स्त्री के स्वास्थ्य व आराम को ध्यान में रखते हुए बनाई गयी होंगी, जिसमे स्त्रियों को शारीरिक कार्य करना वर्जित था। किन्तु साथ ही एक नकारात्मक बात यह भी उभर कर आती है कि स्त्री स्वास्थ्य को पाप-पुण्य से क्यों जोड़ा जाए? किसी जैविक प्रकिया को धार्मिक क्यों बनाया जाए?

PMS2

स्त्रियां आज भी इन्हीं दकियानूसी परम्पराओं से मुक्ति पाने के लिए संघर्षरत हैं। इसका एक उदाहरण स्त्रियों का शनि मंदिर में प्रवेश को लेकर संघर्ष था। वास्तव में ये संघर्ष किसी पूजा पाठ से कम सम्बद्ध था और नज़दीकी से ये इस बात से सम्बद्ध था कि एक हेल्थ हाईजीन का मुद्दा स्त्रियों को गुलाम बनाने की वजह क्यों बन रहा है? किसी स्थान पर प्रवेश को निषिद्ध करने का कारण क्यों बन रहा है? इसीलिए ये संघर्ष सटीक भी था। हमें ऐसी सभी रूढ़ियों का विरोध करना होगा, आज़ादी चाहिए ऐसी सभी रूढ़िवादी और बेतुकी परम्पराओं से। निर्माण करना होगा एक ऐसे समाज का जिसमें सभी को मासिक धर्म से सम्बंधित आवश्यक बातों से अवगत कराया जाए, इसे स्वास्थ्य से ही जोड़ कर देखा जाए। इसे हव्वा बनाकर रखने के बजाय इसपर खुलकर बातचीत की जाए।

साभार – मेदिनी पाण्डेय

ती….तो….आणि तिची मासिक पाळी

Menstruation Matters - ThatMate

ती….तो….आणि तिची मासिक पाळी…!

सगळ्या विश्वाची निर्मिती कुणी केली..?
तर उत्तर येतं…”देवाने…!”
मग पुरुष कुणी निर्माण केले..?
देवाने…
स्त्रीया कुणी निर्माण केल्या…?
देवाने…!
मग स्त्री ची मासिक पाळी कुणी निर्माण केली…?
देवानेच ना…?
जर देवाला मासिक पाळी आवडत नाही तर मग त्याने ती स्त्रीला दिलीच कशाला..?
मासिक पाळी म्हणजे काय…? गर्भधारणा न झाल्याने शरीरातून बाहेर टाकली जाणारी गर्भाची अंतत्वचा…!
गर्भधारणा झाली नाही तर दर महिन्याला 5 दिवस ही क्रिया घडते की जिला आपण मासिक पाळी म्हणतो…!
आता मासिक पाळीत जे रक्त बाहेर पडतं ते अशुद्ध असतं असा एक गैरसमज आहे किंवा या काळात स्त्रीया निगेटिव एनर्जी बाहेर टाकत असतात…असा एक फालतू गैरसमज आहे…
खर तर दर महिन्याला गर्भाशय तयार होतं आणि गर्भधारणा न झाल्याने ते बाहेर टाकलं जातं…मग ते अशुद्ध कसे असेल…?
उलट ज्या ठिकाणी बाळाचं 9 महीने 9 दिवस संगोपन होणारे त्या जागी शरीरातील चांगलच रक्त असेल ना…? की अशुद्ध असेल..?
झाडाला फूल येतं मग त्या फुलाच फळ होतं…
आपण झाडाची फुले देवाला घालतो…कारण देवाला फुले आवडतात…
बाईला मासिक पाळी येते…आणि म्हणून गर्भधारणा होते…
म्हणजे मासिक पाळी जर ‘फूल’ असेल तर गर्भधारणा हे ‘फळ’ झालं..!
देवाला झाडाच फूल चालतं मग मासिक पाळी का चालत नाही..?
मासिक पाळी आलेल्या बाईचा साधा स्पर्श चालत नाही..?
कधी कधी ती घरात धार्मिक कार्यक्रम आहे म्हणून गोळ्या खाऊन पाळी पुढे ढकलते…
की जे सरळ-सरळ निसर्गाच्या विरोधात जाणं आहे…
आणि याचा त्रास तिलाच होतो…
मुळात प्रोब्लेम जो आहे ना तो पुरुषी मानसिकतेत आहे…
तिच्यावर हक्क गाजवला पाहिजे या पुरुषी अहंकाराचा आहे आणि त्या पेक्षा सर्वात जास्त स्वतः स्त्रीच्या मानसिक गुलामगिरित आहे…
या गोष्टींकडे आपण कधी उघड्या आणि वैज्ञानिक दृष्टिकोनाने पाहिलेलच नाहिये…!
मासिक पाळी ही बाईची कमजोरी नसून निसर्गाने बाईला दिलेली ही जास्तीची शक्ती आहे की जी तिला आई बनण्याचे सुख बहाल करते…
आणि कोण आहेत हीे फालतू जनावरं की जी सांगतात ‘ बाईला मासिक पाळीत मंदिरात प्रवेश नाही म्हणून..?’
बाईच गर्भाशय म्हणजे वाटलं काय तुम्हाला..? कोण ही जनावरं की जी सांगतात 10-10 मुलं जन्माला घाला..!
अरे एका बाळंतपणात बाईची काय हालत होते ना ते आधी ‘तुमच्या आईला’ जाऊन विचारा…
पोटाच्या बेंबीपासून ते छातीपर्यन्त 9 महीने 9 दिवस बाईने आणखी एक जीव वाढवायचा…त्याला जन्म द्यायचा..त्याचे संगोपन करायचं…
आणि एवढं सगळं करुन मुलाच्या नावात आईचा साधा उल्लेखही नाही..!
मुळात गडबड आहे ना ती इथल्या सडक्या मेंदूत आहे..!
प्रश्न आहे तो
बाईला केवळ भोगवस्तु म्हणून पाहणाऱ्या इथल्या घाणेरड्या पुरुषी मानसिकतेचा…!
आणि जास्त गडबड आहे ती “तिच्यातच” आहे, कारण तीच स्वतःला समजून घेत नाही…ती कुटुंबाच्या भल्यातच इतकी गुंगते की तिला या गोष्टींवर साधा विचार करायलाही फुरसत नाही…
हे सगळं चालू आहे ते “ती” गप्प आहे…ती विद्रोह करत नाही…ती मुकाट्यांन सहन करते…म्हणून !!!
गरज आहे तिला विद्रोह करण्याची….
इथल्या दांभिक वास्तवाविरुद्ध…
इथल्या सडक्या पुरुषी मानसिकतेविरुद्ध…
इथल्या धर्माच्या अवडंबाविरुद्ध…
आणि गरज आहे त्याने..
तिला समजून घेण्याची…
तिच्या मासिक पाळीला समजून घेण्याची…
तिच्या भावभावनांना समजून घेण्याची…
आणि या विद्रोहात तितक्याच हळुवारपने ‘तिला’ मदत करण्याची…!
मित्रांनो…
विचार तर कराल…?
माझा प्रश्न सर्वांना . . . . .
बाई च्या स्पर्शाने विटाळणारा देव गाई च्या मुञाने कसा काय शुद्ध होतो ? ? ?

The words of Taboo

worditout-word-cloud-2049838

10:00 a.m: A typical Sunday morning, the scene is set – study table, laptop and a cup of strong coffee. I am about to start writing my new blog post and Aai (mother in Marathi) enters the room.

Aai: What are you working on a Sunday morning? (She thinks whenever I am on the laptop I am working)

Me: Thinking of writing a blog on periods.

Aai: Are you nuts? You and your issues!

11:00 am: Aai asks me to join her for the grocery shopping. Unlike other e-commerce sites, she doesn’t believe in buying grocery online. We both head towards the nearby grocery store. While shopping I remember I have to buy sanitary napkins , for ‘those days’ of the month. I head towards the billing counter, the guy wraps the packet in a newspaper and then hands over a black polythene bag. I wonder whether he is handing over a time bomb to me. 😛

3:00 PM: The door bell rings,my niece and sister-in-law enter the house. Aai starts gossiping about the recent television serial she follows with my sister-in-law; in the meanwhile, my niece and I start watching television. Suddenly an advertisement of sanitary napkin pops up, it shows how a sanitary napkin absorbs the blue liquid. My niece who recently got her periods mocks at the ad and tells me, “Attu, am I colorblind or they are actually showing blue color?”

5:00 PM: I call my friend to tell her about“Thatmate” our platform to answer some of the questions related to sex education and menstruation. (Well, this idea popped up when my niece asked, ‘What is a condom’? My whole family was taken aback as if she had committed a crime). To which she replied think twice before doing something like that.

I come from an orthodox family and have heard several myths related to menstruation since childhood. I remember when mother used to get her periods she didn’t enter our pooja room and kitchen. I used to enjoy those 5 days as we used to outsource food from hotels. Mother used some old cotton rags during those days of the month and used to hide them in some dark place. When I got my period mother didn’t insist me to follow everything she used to do, however, she asked me to refrain from going inside the pooja room and she still refrains me. Well, if God disapproves of this fluid then she should disapprove our existence too.

I wish instead of telling me what not to do during my periods my mother would have told me that it’s a natural process and will occur almost till the age of 45. It is the thing to be proud of , it makes you different from those with the XY chromosome. It makes you a woman, Welcome to the womanhood!!

Madhavi Jadhav

लिपस्टिक अंडर माय बुर्का

holding-image

पहलाज निहलानी जी, ‘लिपस्टिक अंडर माय बुर्का’ फिल्म को मुंबई फिल्म फ़ेस्टिवल में जेंडर इक्वेलिटी के लिए ‘ऑक्सफेम’ अवार्ड मिल चुका है। यानी कि हम यह मानकर चलें कि फिल्म कुछ लोगों की नज़रों से होकर गुज़री और इसे सम्मान के काबिल समझा गया। यह फिल्म टोक्यो इंटरनेशनल फिल्म फ़ेस्टिवल में भी ‘द स्पिरिट ऑफ़ एशिया प्राइज़’ जीत चुकी है।

अब आपके मुताबिक इन लोगों को न तो संस्कृति से प्यार है और न ही संस्कृति की कोई समझ। श्रीमान निहलानी के दर्द को कोई नहीं समझ पा रहा! कि वो किस कदर भारतीय संस्कृति और महिलाओं के सम्मान को लेकर चिंतित है जो कि इस फिल्म के पास होते ही मिटटी में मिल जाना है! खैर..

सेंसर बोर्ड के अध्यक्ष महोदय, अवार्ड से किसी विचार या रचना की मान्यता या महानता साबित नहीं हो जाती। लेकिन एक सामान्य सी इच्छा होती है कि जिस कृति को सम्मान से नवाज़ा जा रहा है उसे हम भी देखें और समझें। नकारना होगा तो हम नकार देंगे, आलोचना करनी होगी तो वो भी कर देंगे। हमें अपने विवेक पर पूरा भरोसा है और किसी भी डेमोक्रेटिक सिस्टम में भरोसा करना भी चाहिए।

फिल्म की निर्देशक अलंकृता श्रीवास्तव का कहना है, ‘जहाँ तक मुझे लगता है, बोर्ड फिल्म को इसलिए सर्टिफाइड नहीं करना चाहता क्योंकि यह एक महिलावादी फिल्म है जो पितृसतात्मक समाज को चुनौती देती है।’ अब जरा सुनिये बोर्ड ने क्या कहा, ‘यह एक महिला बेस्ड कहानी है, जिसमें सामान्य जीवन से आगे की कल्पनाएँ दिखाई गयी हैं। इसमें कई विवादास्पद सेक्सुअल सीन हैं, गालियाँ हैं, ऑडियो पोर्नोग्राफी है और समाज के एक ऐसे हिस्से को छुआ गया है जो काफ़ी संवेदनशील है, तो गाइडलाइन के तहत इसे रिफ्यूज़ किया जाता है।’

सबसे पहले ‘विवादास्पद सेक्सुअल सीन’ पर आते हैं। गुड़ खाकर गुलगुलों से परहेज़ करने वाली कहावत शायद निहलानी जी उनके कमरे में बैठकर फिल्मों पर कैंची चलाने वालों के लिए ही बनी है। ये वो लोग हैं जो दो कोड़ी के आइटम गानों पर भद्दे ढंग से नाचती लगभग नग्न लड़कियों और औरतों को देखते वक़्त वही कैंची अपने बगीचे की मिट्टी में गाढ़ आते है ताकि गलती से भी चल ना जाये। दूसरी तरफ मस्ती, ग्रैंड मस्ती, बेफिक्रे, मस्तीजादे जैसी कितनी ही फिल्मों को पास करके सेंसरबोर्ड भारतीय संस्कृति को बचा रहा है।

सिगरेट और शराब के ग्लोरीफिकेशन पर तो आप ये तर्क देते हैं कि आदमी का अपना विवेक है, किसने कहा कि ऐसे सीन देखकर आप भी पीना सीख जायें। तो फिर सेक्स सीन पर आपको इतनी आपत्ति क्यों! फिल्मों में दिखाई जाने वाली हिंसा से आपको ऐतराज नहीं मगर दो लोगों को प्रेम करता हुआ दिखाने से दिक्कत है। जिस तरह किसी फिल्म में दिखाए गए मर्डर को देखकर कोई मर्डर करना सीख जाये और उसमे आपकी कोई ज़िम्मेदारी नहीं तो सेक्स सीन से कोई क्या सीखता है कोई क्या करता है उससे आपका क्या लेना देना!

दिक्कत यह है पहलाज जी कि आप भी उसी समाज की देन हैं जहाँ किसी महिला के लिपस्टिक लगे होंठ विरोध और अपने हक में खुलने के लिए नहीं बल्कि चूमने के लिए बने होते हैं। सेक्स सीन पर तो आप ऐसे बवाल मचा देते हैं जैसे अब तक की फिल्मों में तो आपने सब अभिनेत्रियों को बुर्के में ही पास किया हो!

अब बात करते है, ‘सामान्य जीवन से आगे की कल्पनाओं की’ तो ये अपने आप में कितनी हास्यास्पद बात कही है ना आपने, इतनी समझदारी की उम्मीद तो आपसे की ही जा सकती है कि कल्पना हमेशा ही सामान्य से आगे की ही की जा सकती है। सामान्य की कल्पना करता ही कौन है और करेगा भी क्यों? अगर आप इन्हीं बेहूदा कुतर्कों के आधार पर सार्थक फिल्मों को खारिज़ करते रहे तो भारतीय सिनेमा बेफिक्रे और ग्रैंड मस्ती जैसी फूहड़ फ़िल्मों के नाम से ही पहचाना जाएगा, और इससे बड़ा दुर्भाग्य कुछ भी नहीं हो सकता कला के नाम पर।

फीमेल फैंटेसी से इतनी घबराहट क्यों हुई आपको! इसकी वजह बताकर फिल्म खारिज़ कीजिये। बुरके के अन्दर की लिपस्टिक से ही खौफ खा गए आप तो, जब वो बाहर आएगी तब क्या होगा! सोचियेगा ज़रा… सेंसरबोर्ड की मनमानी ही है कि उसकी सुई सेे हाथी निकल जाता है, अफसोस! बाल रह जाता है।

इसे लिखा है भारती गौड़ ने, जो सोशल मीडिया पर विभिन्न मुद्दों पर अपने विचार व्यक्त करती रहती हैं। वे राजस्थान लेखिका साहित्य संस्थान की मीडिया इंचार्ज हैं और स्वयंसेवी संगठन अस्तित्व की काउंसलर रही हैं। वे जयपुर में रहती हैं।

Source: http://meraranng.in

« Older Entries