बराबरी चाहिए या सिर्फ़ इज्जत ?

क्लास 5th में थी जब पापा का ट्रांसफर गाँव में हुआ। ऐसा गाँव जिसको हम भुच्च देहात कहते हैं। जहाँ ट्रांसफर्मर उड़ने के बाद महीने भर ठीक नहीं होता था और जब हो जाता था तो पूरा गाँव लग्घी लगा कर, हीटर में खाना पका कर, फिर से उसे खराब कर देता।

जब हम वहाँ पहुंचे तो सबसे बड़ी समस्या थी, मेरी पढ़ाई। परिवार को साथ रखने के ध्येय के साथ पापा मुझे कोट- टाई वाले कान्वेंट से उठा कर लाये थे। जब गाँव पहुंचे तो इकलौता ढंग का स्कुल 30 किमी दूर, और बीच में हड्डिया खड़खड़ा देने वाली लालू की सड़क। खण्डहर बनने की राह पर अग्रसर, मनहूस से दिखने वाले दो कमरे व आम के पेड़ के निचे गुलजार होते सरकारी स्कूल को छांटने के बाद एकमात्र स्कुल था,”ऑख्सफोड पब्लिक इस्कूल”। साला अपने देश में कोई जिला नहीं हैं, जहाँ एक-आध Oxford या Cambridge ना उग आया हो।

नवोदय जाने से पहले बस कुछ महीने काटने थे तो हो गया एडमिशन। वहाँ अंग्रेजी में खनखनाती मैम नहीं थी पर पान चबाते सर जरूर थे। वैसे सर जो PTA के नाम पर हक से रविवार के दिन कभी भी साईकिल घुमाते हुए आपके घर आ जाते हैं। तो आये एक दिन। कुछ पॉजिटिव- कुछ निगेटिव फीडबैक दिया। फिर अगले दिन जब स्कुल पहुँची तो मुझे स्टाफ रूम में बुलाया। दो शिक्षक और बैठे थे वहाँ। गुटखा से पिलियाये दांत दिखाते हुए उस मास्टर साहब का सवाल था,” तुम्हारे पापा घर पर काम करते हैं?” मैं सकपकाई, दिमाग पर जोर डाला। याद आया कि जब कल सर आये थे तो पापा उस समय कपड़े धो कर तार पर लगा रहे थे।
” हाँ, म्मी की मदद करते हैं।”
“सभी कामों में?मतलब कपड़े-बर्तन सब? म्मी की तबियत ठीक नहीं रहती?”
“नहीं, ठीक ही रहती है।”
मेरा जवाब सुन कर उन तीनों ने पहले मुझे देखा। फिर एक-दूसरे को। और फिर उनके होठ व्यंग्यात्मक मुस्कान देने की कोशिश में कुछ ऐसे सिकुड़े मानो पुरानी कब्जियत ने हिलोरे मारा हो।
” काफी ज्यादा मॉडर्न परिवार हैं तुम्हारा तो।”
मुझे समझ आ गया था कि मतलब कुछ और था इस वाक्य का। जब बाहर निकली तो पीछे ठहाकों की आवाज थी।पर वो आखिरी बार नहीं था जब ऐसा कुछ सुना था मैंने।

पुरुषप्रधान समाज का सबसे पहला कैरेक्टर होता हैं काम का बंटवारा। एक महिला होकर आप भले ही कन्धे से कन्धा मिलाते हुए MNC में बड़े पोस्ट पर हो लेकिन घर पर बर्तन धोना आपकी जिम्मेदारी ही रहेगी।
क्या लड़के काम नहीं करते घर का ?
बिलकुल करते हैं। अगर वो अपनी माँ के कहने पर झाड़ू- पोंछा कर दे तो एक आदर्श बेटा होते हैं पर बीवी के रहते हुए यही काम करना उनपर “जोरू के गुलाम” का टैग लगा देता हैं।

औरतों की बड़ी तादाद हैं जो इस बात की शिकायत नहीं करता कभी। कारण- उन्हें आज तक दिखा ही नहीं कि पिता भी माँ की तरह ही घर सम्भाल सकते हैं। ये थोड़ी अकल्पनीय चीज हो जाती है हमारे समाज में। जो बेचारे लड़के मदद करना चाहते हैं(out of प्यार and care) वो भी इस बात को एक्सेप्ट नहीं करते कि वो मंगलवार को बीवी साड़ी धो दिए थे भले ही बीवी बिना दिमाग लगाये रोज इनकी चड्डी धोती रहे। “बिना दिमाग लगाये” भई ये है दुनिया के सारी मुसीबत का जड़।

अगर आप औरत हैं, तो यकीन मानिये आपको बहुत सारी बातें सोचने ही नहीं दी गयी हैं।आपको यह भले बता दिया जाएगा की बिल शेयर करो लेकिन ये सोचने का मौका कम दिया जाएगा की झाड़ू-पोछा और बर्तन जैसी चीजे भी शेयर होनी चाहिए। जैसा की बराबरी हमेशा जिम्मेदारी से ही आती हैं तो दो जिम्मेदारी जरूर लेने की कोशिश करें -अपनी आर्थिक जिम्मेदारी और अपने घर के पुरुषों को अघराया भैंसा बनने से बचाने की जिम्मेदारी। दोनों में से किसी एक में भी चूकेंगी तो समाज में इज्जत मिलेगी बस, बराबरी नहीं।

Megha Maitrey

Surrogacy

SURROGACY IS A BOON AND NOT A BANE!

Assisted Reproductive Technology was good and effective tool for childless couple, who were unable to conceive or bear their own child. As, here the child born through this technique would be genetically attached to the biological parents. Most of the couples especially in India, don’t want to go for adoption because it is a long legal process as well as time – consuming. Even in many families adoption is not considered as proper and hence not allowed. So for them, this technology is blessing.

Now when we speak about surrogacy, no doubt this technique of medical science is very much useful for the families or couples for having their own child but along with it, has increased the problem of trafficking of women for becoming surrogate mother as well as egg donor.

Now the question is, whether the changes which are made in the ART Bill, 2016 for the protection of the surrogate mother as well as for the egg donor will actually help to combat this problem? The recent amended bill has brought question regarding the applicability of the ART in genuine cases especially the condition where only a relative can become the surrogate mother. This will be a difficult situation in genuine cases. It’s true that commercialization has brought many problems like trafficking of women/girls for egg donation and surrogacy but it has also helped many poor women to earn some handsome amount for her family. There are many ways by which government can tackle the problem surrogacy trafficking. Like opening a centre where women who willingly want to become surrogate mother or egg donor can register their names.. With the help of this centre only women will be contacted by hospital authority no mediator or agent will come in between. The amount that a surrogate mother or an egg donor is entitled should be fixed by the government so that there would be transparency in terms of monetary transaction among the intended couples, hospital authority and the surrogate mother. This procedure can ensure that people take the benefit of this facility. Proper monitoring is required for this entire procedure. Government can’t take such decisions which will make the entire procedure impossible. Little effort from Government can bring happiness in so many families. Even ICMR can also play an important role while dealing problem related to commercialization of surrogacy. Till now there is no prescribed dosage of synthetic hormone for egg removal process which is another loophole of the present Bill and the previous Bill. It is the duty of the ICMR to mention the prescribed dose of synthetic hormone which is used for egg removal.  Also, every egg removal process should be video recorded with full details of the donor. By doing this, trafficking of girls can be controlled and checked. I think these changes can help many couples, women in need to use this technique for their benefit. Hope Government will soon make changes in the present bill.

Surrogacy Is a Boon and Not Bane if monitored properly by Government Agency as well as by us…………Pyali Chatterjee

Menstruation Matters - ThatMate

ती….तो….आणि तिची मासिक पाळी

ती….तो….आणि तिची मासिक पाळी…!

सगळ्या विश्वाची निर्मिती कुणी केली..?
तर उत्तर येतं…”देवाने…!”
मग पुरुष कुणी निर्माण केले..?
देवाने…
स्त्रीया कुणी निर्माण केल्या…?
देवाने…!
मग स्त्री ची मासिक पाळी कुणी निर्माण केली…?
देवानेच ना…?
जर देवाला मासिक पाळी आवडत नाही तर मग त्याने ती स्त्रीला दिलीच कशाला..?
मासिक पाळी म्हणजे काय…? गर्भधारणा न झाल्याने शरीरातून बाहेर टाकली जाणारी गर्भाची अंतत्वचा…!
गर्भधारणा झाली नाही तर दर महिन्याला 5 दिवस ही क्रिया घडते की जिला आपण मासिक पाळी म्हणतो…!
आता मासिक पाळीत जे रक्त बाहेर पडतं ते अशुद्ध असतं असा एक गैरसमज आहे किंवा या काळात स्त्रीया निगेटिव एनर्जी बाहेर टाकत असतात…असा एक फालतू गैरसमज आहे…
खर तर दर महिन्याला गर्भाशय तयार होतं आणि गर्भधारणा न झाल्याने ते बाहेर टाकलं जातं…मग ते अशुद्ध कसे असेल…?
उलट ज्या ठिकाणी बाळाचं 9 महीने 9 दिवस संगोपन होणारे त्या जागी शरीरातील चांगलच रक्त असेल ना…? की अशुद्ध असेल..?
झाडाला फूल येतं मग त्या फुलाच फळ होतं…
आपण झाडाची फुले देवाला घालतो…कारण देवाला फुले आवडतात…
बाईला मासिक पाळी येते…आणि म्हणून गर्भधारणा होते…
म्हणजे मासिक पाळी जर ‘फूल’ असेल तर गर्भधारणा हे ‘फळ’ झालं..!
देवाला झाडाच फूल चालतं मग मासिक पाळी का चालत नाही..?
मासिक पाळी आलेल्या बाईचा साधा स्पर्श चालत नाही..?
कधी कधी ती घरात धार्मिक कार्यक्रम आहे म्हणून गोळ्या खाऊन पाळी पुढे ढकलते…
की जे सरळ-सरळ निसर्गाच्या विरोधात जाणं आहे…
आणि याचा त्रास तिलाच होतो…
मुळात प्रोब्लेम जो आहे ना तो पुरुषी मानसिकतेत आहे…
तिच्यावर हक्क गाजवला पाहिजे या पुरुषी अहंकाराचा आहे आणि त्या पेक्षा सर्वात जास्त स्वतः स्त्रीच्या मानसिक गुलामगिरित आहे…
या गोष्टींकडे आपण कधी उघड्या आणि वैज्ञानिक दृष्टिकोनाने पाहिलेलच नाहिये…!
मासिक पाळी ही बाईची कमजोरी नसून निसर्गाने बाईला दिलेली ही जास्तीची शक्ती आहे की जी तिला आई बनण्याचे सुख बहाल करते…
आणि कोण आहेत हीे फालतू जनावरं की जी सांगतात ‘ बाईला मासिक पाळीत मंदिरात प्रवेश नाही म्हणून..?’
बाईच गर्भाशय म्हणजे वाटलं काय तुम्हाला..? कोण ही जनावरं की जी सांगतात 10-10 मुलं जन्माला घाला..!
अरे एका बाळंतपणात बाईची काय हालत होते ना ते आधी ‘तुमच्या आईला’ जाऊन विचारा…
पोटाच्या बेंबीपासून ते छातीपर्यन्त 9 महीने 9 दिवस बाईने आणखी एक जीव वाढवायचा…त्याला जन्म द्यायचा..त्याचे संगोपन करायचं…
आणि एवढं सगळं करुन मुलाच्या नावात आईचा साधा उल्लेखही नाही..!
मुळात गडबड आहे ना ती इथल्या सडक्या मेंदूत आहे..!
प्रश्न आहे तो
बाईला केवळ भोगवस्तु म्हणून पाहणाऱ्या इथल्या घाणेरड्या पुरुषी मानसिकतेचा…!
आणि जास्त गडबड आहे ती “तिच्यातच” आहे, कारण तीच स्वतःला समजून घेत नाही…ती कुटुंबाच्या भल्यातच इतकी गुंगते की तिला या गोष्टींवर साधा विचार करायलाही फुरसत नाही…
हे सगळं चालू आहे ते “ती” गप्प आहे…ती विद्रोह करत नाही…ती मुकाट्यांन सहन करते…म्हणून !!!
गरज आहे तिला विद्रोह करण्याची….
इथल्या दांभिक वास्तवाविरुद्ध…
इथल्या सडक्या पुरुषी मानसिकतेविरुद्ध…
इथल्या धर्माच्या अवडंबाविरुद्ध…
आणि गरज आहे त्याने..
तिला समजून घेण्याची…
तिच्या मासिक पाळीला समजून घेण्याची…
तिच्या भावभावनांना समजून घेण्याची…
आणि या विद्रोहात तितक्याच हळुवारपने ‘तिला’ मदत करण्याची…!
मित्रांनो…
विचार तर कराल…?
माझा प्रश्न सर्वांना . . . . .
बाई च्या स्पर्शाने विटाळणारा देव गाई च्या मुञाने कसा काय शुद्ध होतो ? ? ?

Pregnant - ThatMate

गरोदरपण आणि लैंगिक संबंध

गरोदरपणातील लैंगिक संबंधांविषयी, कितव्या महिन्यापर्यंत संबंध ठेवावेत? गरोदरपणात संबध ठेवल्यावर काही समस्या निर्माण होतात का? गर्भाला काही धोका असतो का? असे अनेक प्रश्न आपल्या मनात असतात. आपल्या वेबसाईटवरही अनेक प्रश्नकर्त्यांनी यासंबधी प्रश्न विचारले गेले. गरोदरपणातील लैंगिक संबंधांविषयीची काही महत्वाची माहिती या लेखात देण्याचा प्रयत्न केला आहे.

दोन्ही जोडीदारांची इच्छा असेल आणि काही विशिष्ट समस्या नसेल तर गरोदरपणात शरीर संबंधावर खरं तर काही निर्बंध असण्याची आवश्यकता नाही. वास्तवात गर्भ धारणा झाली आहे हे बहुतेक वेळेस दुसऱ्या महिन्यात लक्षात येते. त्यामुळे गरोदरपणाच्या अगदी प्राथमिक टप्प्यात शरीर संबंध आलेले असण्याची शक्यता असतेच. शरीर संबंधांचा गर्भावर कसलाही परिणाम होत नाही.

पूर्वी जर एकापेक्षा अधिक गर्भपात झाले असतील किंवा तसा काही इतिहास (हिस्ट्री) असेल, तर डॉक्टर बरेचदा पहिल्या काही महिन्यात शरीर संबंध टाळण्याचा सल्ला देतात. असा काही इतिहास असेल तर लिंग योनी मैथुन टाळावा. गरोदरपणात गर्भाशयाचे तोंड उघडणे किंवा रक्तस्त्राव (स्पॉटिंग) होणे गंभीर असते. अशी शक्यता वाटत असेल तर तुम्हाला शरीर संबंध टाळण्याचा सल्ला दिला जाऊ शकतो. स्त्री पहिलटकरीण असेल, तर प्रसूतीपूर्वी दोन आठवड्यादरम्यान गर्भाचे डोके मातेच्या कटीभागात उतरते. म्हणून गर्भारपणाच्या शेवटच्या महिन्यात संभोग करू नये. नंतरच्या गर्भारपणात असे होत नाही, म्हणून शेवटच्या महिन्यातही संभोग करायला हरकत नाही.

गरोदरपणाच्या नंतरच्या काळात म्हणजे गरोदरपणाच्या तिसऱ्या टप्प्यात किंवा शेवटच्या तीन महिन्यात पोटाचा वाढलेला घेर कदाचित अडथळा ठरू शकतो किंवा ओटीपोटावर जोर किंवा दाब पडण्याची शक्यता असते. म्हणूनच या काळात संभोग करताना थोडी काळजी घ्यावी. आपल्या शरीराचा दाब स्त्रीच्या पोटावर पडू नये यासाठी पुरुषाने संभोगावेळी आपले तळहात जमिनीवर टेकवावेत, हात कोपरात सरळ राखावेत व शरीराचा भार तळहातावर पेलून संभोग करावा; किंवा पुरुषाने बसून संभोग करावा. योनीत खोलवर शिश्नाचा प्रवेश करू नये. घर्षण जोराने करू नये. योनिद्वाराला हाताने स्पर्श करू नये. संभोगापूर्वी शिश्न धुवून घ्यावे. या काळात स्त्रीला पुरुषापासून एस. टी. आय. म्हणजेच लैंगिक संबंधांतून पसरणारे आजार होऊ नयेत म्हणून संभोग करताना पुरुषाने निरोध वापरावा.

या परिस्थितीत अन्य एखाद्या पोझिशनचा विचार करता येईल उदा. शरीर संबंधांच्या वेळी स्त्री जोडीदार वरती असेल. जर जोडीदाराला लिंग संसर्ग झालेला असेल तर तो पूर्ण बरा होइपर्यंत संबंध न येऊ देणं गरजेचंच आहे. या आणि अशा काही परिस्थिती सोडल्या तर शरीर संबंधांवर इतर कुठलीही बंधनं आणण्याची गरज नाही. अर्थातच दोन्ही जोडीदारांची इच्छा आणि संमती महत्वाची.

Source: http://letstalksexuality.com

पुरुष कभी रोते नहीं हैं

कई बार मैं कई मौकों पर रोना चाहता हूँ. चिल्ला चिल्ला कर रोने का मन करता है. बहुत सारे मौकों पर जो अन्दर का “मैं” होता है वो रोना चाहता है. मेरे ही जैसा बहुत सारे पुरुष भी फील करते होंगे. मगर एक जो हम पुरुषों की बचपन से जो कंडीशनिंग की गई होती है न कि “लड़के/मर्द/पुरुष कभी रोते नहीं हैं” वो हम लोगों के रोने को ब्रेक लगा देता है. यही जो ब्रेक होता है न वही पुरुषों की बदसूरती और हार्ट अटैक का एक कारण भी बनता है. मोस्टली पुरुष बदसूरत मिलते हैं… उनकी स्किन खराब होती है… ग्लो जैसी चीज़ें उनसे दूर रहती हैं. और एक अलग सी रफ़नेस पुरुषों में देखने को मिलती है जो कि महिलाओं में देखने को नहीं मिलती. न्यूरो-साइंटिफिक पर्सपेक्टिव्स से देखा जाए तो खूबसूरत दिखने के लिए रोना भी बहुत ज़रूरी है. यह रोने की आर्ट महिलाएं बख़ूबी जानतीं हैं. और यह औरतें इतनी ज़बरदस्त रुआंटी होतीं हैं कि इनका रोना देख कर बेचारे पुरुष रोना भूल चुके हैं. मेंटल हेल्थ और स्टेबिलिटी के लिए रोना बहुत ज़रूरी है. रोने के कई फायदे हैं जिसका यूज़ सबसे ज्यादा बाय डिफ़ॉल्ट महिलाएं ही कर पाती हैं. रोने से किसी भी तरह का स्ट्रेस दूर हो जाता है यहाँ तक कि जो नॉन-इमोशनल टीयर्स होते हैं उनसे भी हमारी बॉडी में काफी सारे पॉजिटिव फिजियोलॉजिकल चेंजेज़ होते हैं. प्याज़ छिलने, हँसने और ठसका लगने से जो आँसूं निकलते हैं उन्हें नॉन-इमोशनल टीयर्स कहते हैं.

रोने से मेंटल टफनेस बढती है जो आपको लेस प्रोडक्टिव होने से, ड्रग्स और शराब जैसी गन्दी चीज़ों से दूर रखती है. रोने से आप खराब से खराब सिचुएशन को भी हैंडल करने के लिए तैयार हो जाते हैं. रोने से आपका समाज में एक पॉजिटिव रिप्रजेंटेशन होता है जो आपके सामाजिकता को बढाते हुए आपका सामाजिक दायरा मजबूत करते हैं. इसलिए महिलाएं बहुत सामाजिक होतीं हैं. उनके सोशल कॉन्टेक्ट्स बहुत सही और स्ट्रोंग होते हैं. उन्हें किसी ड्रग्स या शराब की ज़रूरत नहीं होती. पुरुषों में इसलिए सामाजिकता नहीं पाई जाती क्यूंकि वो अपना इमोशनल बर्स्ट करना अपनी शान के खिलाफ़ समझते हैं. इसलिए उन्हें ड्रग्स या शराब की ज़रूरत पड़ती है. पुरुषों की कंडीशनिंग उनके ही घर में ख़राब होती है. उन्हें बचपन से यही बताया जाता है कि रोना नहीं है. प्रकृति ने महिलाओं को रोने की ताक़त देकर उनका नैचुरली एम्पावरमेंट (सशक्तिकरण) किया है. और यह नेचुरल वीमेन एम्पावरमेंट इसलिए किया गया है ताकि यह मुश्किल से मुश्किल घड़ी में जहाँ पुरुष आत्महत्या कर लेते हैं वहां यह डट कर सिचुएशन का मुकाबला कर सकें. देखा ही होगा कि पुरुष जब कुछ नहीं कर पाता है तो या तो माँ-बहन की गाली देता है या फिर आत्महत्या. इसलिए पुरुषों में आत्महत्या की दर काफी है.

आज ऑक्सफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी में हुए एक साइकोलॉजिकल रिसर्च के बारे में पढ़ रहा था कि सोशल मीडिया में जो लोग अपने स्टेटस में “‘इट’स कौम्प्लीकेटेड”… “इन अ रिलेशनशिप” लिखते हैं वो लोग दूसरों से अटेंशन पाना चाहते हैं… जिससे कि उनका यह लिखा देख कर लोग उनसे सहानुभूति दिखाते हुए बात करें. एक एनालिसिस में यह भी निकला कि जो लोग अपने रोमांस या सेक्स पार्टनर… स्पाउस (जाहिलों को बता दूँ कि स्पाउस मतलब आपके हस्बैंड या वाइफ से होता है) के फोटोग्रैफ्स सोशल मीडिया पर अपडेट करते हैं वो लोग मेंटली कमज़ोर होते हैं. इनमें बहुत ही लो सेल्फ एस्टीम होता है. इन्हें अपने स्पाउस से बिल्कुल भी प्यार नहीं होता… चूँकि यह कम्पैनियन शिप के मामले में कमज़ोर होते हैं तो दुनिया को और खुद को लाइक्स और कमेंट्स के ज़रिये खुश दिखाने की कोशिश करते हैं.

चलते चलते बताता चलूँ कि वीमेन एम्पावरमेंट तब सक्सेसफुल समझा जाना चाहिए जब कोई भी महिला अपनी सेक्सुअल डिमांड और फीलिंग्स को अपने पार्टनर के सामने खुल कर रख सके. सेक्स की बात और सेक्सुअल डिमांड रखने पर कोई उसके करैक्टर पर सवाल न उठाये. जिस दिन महिलाएँ एक्सप्रेशन ऑफ़ सेक्स को गिल्ट के रूप में लेने से बाहर आ जाएँ उसी दिन सही मायनों में वीमेन एम्पावरमेंट होगा… फेसबुकिये जाहिलों और एवरेज लोगों को बता दूँ कि वीमेन एम्पावरमेंट को हिंदी में महिला सशक्तिकरण बोलते हैं.

Mahfooz Ali

आंतरराष्ट्रीय महिला दिन आणि FGM

fgm-campaign-page-jpg

FGM हा प्रकार केवळ आफ्रिकेत नाही तर भारतामध्ये स्त्रियांची सुंता करणे हा प्रकार बोहरा समाजात चालतो ज्याला खतना असे म्हणतात. वयात येणाऱ्या मुलींच्या जनांगातील अवयव कापले जातात ते कधी ब्लेड, गंजलेले चाकु व काचेच्या धारदार भागाने आणि त्यात बऱ्याच वेळा रक्तर्स्त्राव आणि जखमांना त्या बळी पडतात.

हि प्रथा बंद व्हावी यासाठी मुंबईतील पत्रकार आरेफा जोहारी हिने ‘सहियो ‘ नावाची संघटना उभी केली आहे. ती स्वतः या प्रकाराचा बळी आहे आणि अन्य मुलींना वाचविण्यासाठी तिची धडपड आहे. सहियो संस्थेच्या ओनलाईन सर्वेक्षणात 81% स्त्रियांनी हि प्रथा बंद व्हाव्ही असे म्हटले आहे. कधी होणार स्त्री मुक्ती या देशात?

स्त्रिया म्हणजे काय गणपतीच्या मूर्ती थोड्या आहेत की 8 मार्चला आंतरराष्ट्रीय महिला दिनोत्सव म्हणून त्यांची पूजा करायची आणि नंतर विसर्जन करायचे. मागच्या महिन्यात एक बाल विवाह रामोजी फिल्म सिटी जवळ असलेल्या एका वेद पाठशाळेत आम्ही थांबवला . मुलगी 13 आणि मुलगा 16 वर्ष वय. परिवार सुशिक्षित . मुलीची आई कॉन्व्हेंट शाळेत शिक्षक. मग काय फायदा त्या शीक्षणाचा . त्यापेक्षा अडाणी बरें म्हणायचे😢

सांगली जिल्ह्यातील म्हाईसाळ गावात 19 अर्भक नाल्यात फेकून दिलेली सापडली. सीमावर्ती भागात लिंग चाचणी करून अश्या प्रकारे भ्रूण हत्या मोठ्या प्रमाणावर होत आहे . डॉ सुदाम मुंडेंची अवलाद वाढत चालली आहे. कधी थांबणार हे दुष्टचक्र??

पुरुषांची स्त्रियांकडे पहाण्याची मानसिकता बदलन्याबरोबरच स्त्रियांनीही भीतीला न घाबरता स्वतः च्या क्षमतेवर विश्वास ठेवला तर कधीही त्या बळी पडणार नाहित असा आत्मविश्वास आहें . सर्वांनी मिळूनच स्त्रियांना सामाजीक, मानसिक गुलामगिरीतून मुक्त करण्याचा संकल्प आज करुयात आणि महिलांच्या कर्तुत्वाला सलाम करत येणारा प्रत्येक दिवस हा महिला दिनोत्सव म्हणून साजरा करूयात या अपेक्षांसह.

10570377_10204758590698905_3128255435502498171_n
महेश भागवत

सारी महिलाओंं को समर्पित

international-womens-day

कल एक इंटेलेक्चुअल और व्यस्क(उम्र के हिसाब से) महिला मित्र से बातचीत के दौरान उन्होंने कहा
“राम ने जो सीता के साथ किया, वो सही था। वो राजा थे, उनको एक उदाहरण स्थापित करना था दुनिया के सामने।”
पिछले कुछ महीनो से मैं मार्क ट्वेन के इस लाइन का बड़ा फैन हो गया हूँ और इसका अक्षरशः पालन करता हूँ।

“Never argue with stupid people. They will drag you down to their level and then beat you with experience”

इसलिए मैंने अपनी असहमति जाहिर करने के बाद उस बातचीत से उठ जाना बेहतर समझा। लेकिन हां , खयालो की एक आंधी जरूर चलने लगी थी, लेखक मन विचलित हो गया था।

औरतों, महिलाओं, बेटियों, माँ और पत्नियों की कहानी यहीं रामायण से शुरू होती है। अहल्या से लेके सीता तक की इस कहानी में औरतों के अधिकारों को हर एक स्तर पे कुचल देते है वाल्मीकि। इतना एंटी प्रोग्रेसिव लेखक। चलो, राम ने जो किया, वो दुनियादारी के नाम पे किये जाने वाला कई “समझदारियों” में से एक था, लेकिन सीता, सीता ने जो किया वो? आत्मसमर्पण। क्यों, आखिर क्यों आपको अपने चरित्र को साबित करने की जरूरत है, जब आप, आपका पति और पूरे संसार को पता था कि आप पवित्र हैं। क्यों नहीं, उस दिन, हां उसी वक़्त जब युद्ध के मैदान में राम ने आपसे अग्निपरीक्षा की मांग की थी, आपने विद्रोह कर दिया। क्यों नहीं आप इतना कह पायी कि आप पिछले एक वर्ष में पवित्र रहे कि नहीं, मुझे इसका प्रमाण चाहिए। और हां, दूसरी बार भी आप ये साहस ना जुटा सकी और विद्रोह के साहस की बजाय मौत को बेहतर समझा। फिर जो होना था, वही हुआ, बिलकुल उसी ढर्रे पे। मर्द मजबूत होता गया, पुरुषोत्तम को आदर्श मानकर। औरतें पवित्र बनती गईं सीता को आदर्श मानकर।

फिर कई 100 सालों बाद कुंती ने कमजोरी दिखाई, एक बार फिर दुनियादारी के नाम पर आपका विद्रोह दम तोड़ गया। वो तो भला हुआ जो कर्ण इतना प्रतिभावान निकला कि दुनिया के पटल पे कुंती को माँ कहने का साहस कर पाया। वरना जो गति आज के दुनिया में गरीब की है, वो उस वक़्त प्रतिभारहित लोगो की थी।

रतिनाथ की चाची(जिसमे विधवा चाची का देवर रेप कर देता है और उसके बाद फरार। सीता को फॉलो करने वाले औरत समाज फिरसे चाची को कसूरवार ठहराती है, चाची सब कुछ सहती है लेकिन सच नहीं बताती किसीको। पढियेगा अगर नहीं पढ़ी हो तो। नागार्जुन के लेखन का कमाल है) से लेकर पत्नी(जैनेन्द्र कुमार की लिखी एक कहानी है, ज़रूर से पढ़िए) तक, सबने औरतों को या तो बलिदान देते हुए दिखाए हैं या फिर कमजोर। क्या ही बदलता!

अब आज की बात करते हैं। आपको ये शिकायत है कि आपको अधिकार नहीं मिले, मर्दों ने आपके पीरियड्स से लेके शादी तक, आपके करियर से लेके आपकी सुरक्षा तक एक बेड़ियां लगा रखी है तो आप सही है हमेशा की तरह और कमजोर हैं हमेशा की तरह। क्यों नहीं आप कह देते पापा को कि 1 रुपया दहेज़ नहीं दूँगी, चाहे शादी हो ना हो। क्यों नहीं हर उस छेड़ने वाली आँखों को एक घूँसा लगा देती है आप, जिसकी आँखों के चारों और हुए काले अँधेरे अगली लड़की को देखने के पहले 100 बार वार्निंग देंगे। क्यों नहीं, आप ट्रैन पे, बस पे कभी किसी ग्रोप करती हुई हाथों की उंगलिया मरोड़ देती है। यकीन मानिए, हर एक बार जो आप आगे बढ़ जाती है, उन उँगलियों को मजबूती दे जाती हैं। क्यों आखिर क्यों, कमजोरी का ये चोगा उतारकर वो जो आप मांग रही हैं, आग्रह कर रही है, उसको छीन नही लेती। आखिर क्यों?

मेरी एक दोस्त से बातचीत के दौरान उसने बताया कि उसे दसहरा के अश्टमी की पूजा करनी थी और उसी वक़्त उसके पीरियड्स आने वाले थे तो उसने उसे डिले करने वाली दवा खा ली। सीरियसली! उसके बाद उसकी जो तबियत खराब हुई, 4 बोतल पानी चढ़ाना पड़ गया। यहां फिर से मैं एक प्रोग्रेसिव लड़की की बात कर रहा हूँ। तो आप पढ़ लिख कितना भी जाएँ, कितना भी सेक्सिस्ट, फेमिनिस्ट कर लें, बिन आवाज़ उठाये आप वही रहेंगी, सीता ने जो स्केल सेट किया था आपके लिए। हर उस मंदिर, मस्जिद का अस्तित्व संकट में हो जो प्रकृति के दिए हुए इस उपहार को गन्दगी समझता हो, तब आप “आप”बनोगे।

किसी ने मुझसे कहा कि गालियां माँ, बहनों के नाम पे इसलिए है क्योंकि इनकी हम इज्जत करते हैं। इज्ज़त, हाहा, इज्जत नहीं चाहिए इनको भाईसाहब। अधिकार चाहिए, वो तो ये लेने से रही तो फिर इज्जत ही सही। अच्छा, इसीलिए पति अपनी पत्नी को मारता है, अपनी बेटी को कुछ पैसे देके किसी पराए लड़के के यहाँ मरने तक छोड़ आता है। वाह, क्या लॉजिक है। वेसे दुनियादारी का कभी भी लॉजिक से कुछ लेना देना रहा था क्या।

आपने हमे जनम दिया, आपने पहला भोजन दिया। आप हमें लेके कई महीनो तक भटकती रही और आपने ही हंमारे chaos में stability दी लेकिन फिर भी आप हाशिये पे। ज़रूर कुछ तो गलती होगी आपकी, शायद आपकी कमजोरी!

ये दुनिया मजबूतों की दुनिया है। जब तक आपको आपके अधिकार के लिए किसी राजा राम मोहन राय, ईश्वर चंद्र विद्यासागर जैसों की जरूरत पड़ती रहेगी आप उस समय तक बराबर नही होंगी। ये दुनिया जयललिता को याद रखेगी जिसे एक बार विधानसभा में अपमानित किया गया तो अगली बार वो मुख्यमंत्री बनकर लौटी ना कि राबड़ी देवी को। दुनिया का इतिहास सोना महापात्रा को याद रखेगा, दीपिका पादुकोण को याद रखेगा, इंदिरा गांधी को याद रखेगा क्योंकि ये बस कहीँ पहुँची नहीं, मर्दो के इस रेगिस्तान में औरतों के लिये एक छाँव तैयार किया है।

दुनिया का इतिहास गवाह रहा है कि मजबूतों के पैरों तले कमजोर कुचला गया है तो बस यही कहूंगा कि a day after everyday(अनुराग कश्यप की एक शार्ट मूवी है) के नायिका की तरह अपनी आवाज़ की मासूमियत को हटाइये। किसी से कुछ मांगना या उम्मीद करना बन्द कर दीजिए। अब लेने की बारी है, छीन कर।

एक आखिरी बात क्रहनी थी ये सेक्सिट और फेमिनिस्ट बनना बंद कर दीजिए। जब आप ये बात समझ लेंगी कि ये लडाई आपकी है, मर्दों की नहीं, तो फिर आपकी आवाज़ ऐसे ही मजबूत हो जायेगी। एक्चुअली ये लड़ाई मर्दो से नहीं है, आपसे है, खुद से है, आपके वजूद से है। आपको अगर कुछ बनना है तो क्रांतिकारी बनिये और नहीं तो मर्दों का समाज कुछ और हज़ार सालों तक आपकी अग्निपरीक्षा लेता रहेगा।

P.s: बहुत मुश्किल रहा है ये लिखना। उम्मीद है कि आप इसके शब्दो से ज्यादा इसका स्पीरिट समझेंगे। अगर किसी को ठेस पहुचती है इन शब्दों से तो सही है, मेरी कोशिश कामयाब हुई। सच बता रहे है, कुछ करिये। बहुत लेट हो गया है, कब तक रोती रहियेगा। आपकी प्रतिक्रिया का इंतज़ार रहेगा।

Kumar Priyadarshi