Not Knowing it was OCD

Image result for ocd

 

Obsessive Compulsive Disorder (OCD) has a huge impact, not only on the individual with the disorder, but also on the person or persons living with the OCD sufferer. Being married to someone with OCD can be hard. In some instances, the partner of the person with OCD simply denies that the disorder exists, but in most cases, spouses report that their loved one’s OCD greatly affects them. Spouses and other family members often report feelings of frustration, isolation, shame and guilt.

Often spouses and other family members have to adhere to rituals around eating or cleanliness. Or they may have to allow significant time to leave the house so rituals can be completed, or repeatedly provide reassurance or make excuses for their spouse. These types of behaviors by spouses and other family members of those with OCD are called “accommodations” and it has been found that nearly 90% of individuals with OCD live with a spouse or other family member who accommodate their symptoms in a considerable way. Over 80% of family members know that their loved ones obsessions and compulsions are unreasonable and 66% realize that making accommodations does not help to alleviate OCD symptoms. Spouses who participate in or help with compulsive behaviors often become emotionally over involved and frequently neglect their own needs. This tends to worsen the cycle of obsessions and compulsions and recent studies have found that avoidance and accommodations made by spouses serve as an indicator of poorer treatment outcomes.

Things spouses (and other family members) do to accommodate their loved one with OCD include:

  • Giving reassurance (e.g. reassuring spouse that he or she is not contaminated)
  • Waiting until rituals and compulsions are completed
  • Helping to complete a ritual or compulsion (e.g. checking the door for the individual with OCD)
  • Providing spouse with items needed to perform compulsions (e.g. purchasing excessive amounts of soap)
  • Doing things so the spouse with OCD doesn’t have to (e.g. touching public door knobs)
  • Making decisions for the spouse with OCD because the spouse with OCD is unable to do so
  • Taking on additional responsibilities that the spouse with OCD is unable to perform
  • Avoiding talking about things that could trigger the spouse’s OCD symptoms
  • Making excuses or lying for the spouse with OCD when he/she missed work because of OCD
  • Putting up with unusual conditions at home because of OCD

The good news is that there are effective forms of treatment that can help the person with OCD to lead a normal life and can teach spouses of those with OCD to learn what to expect and how to respond to the waxing and waning cycle of OCD.

Source: https://www.groundworkcounseling.com/ocd/when-your-spouse-has-ocd-orlando-ocd-therapist-shares-how-ocd-affects-marriages/

World No Tobacco Day

poster-hi-res

आपण नेहमी पाहतो तंबाखू खाणाऱ्याचे किंवा बिडी सिगारेट द्वारे तंबाखूचे सेवन करणाऱ्याचे जगणे. तंबाखू मळताना किंवा बिडी सिगारेट ओढताना त्याचे स्टेन्स व वास कपड्यावरती पसरतात, दातांवरती दिसतात, आणि हवेतूनही पसरतात. आणि त्याचा प्रत्येक दिवस, प्रत्येक क्षण पुढची वेळ, पुढचा क्षण कधी येईल?, कधी तलफ होईल व कधी झुरका घेता येईल याच विचारात जातो. जर तुम्ही त्यापैकी असाल तर हा दिवस तुमच्यासाठी आहे. कारण तंबाखूमुळे फक्त तुमच्या आरोग्याला किंवा जीवाला धोका नाही तर तुमच्या वैयक्तिक , आर्थिक , कौटुंबिक, सामाजिक प्रगतीलाही धोका आहे. एवढंच नव्हे तर समाजाच्या व देशाच्या प्रगतीला पण धोका आहे…

दरवर्षी ३१ मे हा दिवस १९८८ पासून जागतिक तंबाखू विरोधी दिन म्हणून साजरा केला जातो. तंबाखूच्या व तंबाखूजन्य पदार्थाच्या सेवनामुळे व वापरामुळे होणाऱ्या विविध वाईट परिणामांविषयी जन-जागृती करणे व तंबाखू व तंबाखूजन्य पदार्थपासून लोकांना दूर करणे व त्यासाठी लोकांना प्रवृत्त करणे हा त्यामागचा हेतू होय. या वर्षीचे जागतिक तंबाखू विरोधी दिनाचे घोषवाक्य आहे… “तंबाखूचा विळखा आणि प्रगतीला धोका”.@ डाॅ अतुल ढगे
दर वर्षी तंबाखूमुळे जगभरामध्ये ७० लाख लोकांचा मृत्यू होतो. २०३० पर्यंत हाच आकडा ८० लाखापर्यंत जाईल असेल निदर्शनास आले आहे. तंबाखू व तंबाखूजन्य पदार्थ वापरणाऱ्या लोकांपैकी ५० % लोक तंबाखूमुळे आज न उद्या मृत्युमुखी पडतात.

तंबाखूचे आयुष्यावर व आरोग्यावर दूरगामी व घातक परिणाम होतात. तोंडाचे, फुफुसाचे कैन्सर ( कर्करोग ) व त्यामुळे होणारा मृत्यू हा सर्वात मोठा परिणाम. त्यासोबतच हृदयाचे व रक्तवाहिन्यांचे विकार , श्वसनसंस्थेचे विकार जसे कि अस्थमा, ब्रॉन्कायटिस इत्यादी आजार, मेंदूला रक्ताचा अपूर्ण पुरवठा व त्यामुळे येणार पक्षाघात किंवा इतर आजार हे काही महत्वाचे आरोग्यावर होणारे परिणाम आहेत.

तंबाखूच्या व तंबाखूजन्य पदार्थाच्या वापरामुळे फक्त त्या व्यक्तीवरतीच नाही तर त्याच्या कुटुंबावरती, लहान मुलांवरती व सहवासातील इतर व्यक्तीवरही खूप मोठा परिणाम होतो. ज्यावेळी एखादी व्यक्ती घरामध्ये, ऑफिसमध्ये, हॉटेल किंवा रेस्टॉरंट मध्ये किंवा सार्वजनिक ठिकाणी सिगारेट किंवा बिडी ओढत असते त्यावेळी तो धूर व सिगारेट/ बिडी मधील केमिकल्स इतरांच्या शरीरात जातात. अशा तंबाखूच्या धुरामध्ये ४००० पेक्षा अधिक केमिकल असतात त्यापैकी जवळपास २५० केमिकल हे मानवाच्या आरोग्यास अपायकारक असतात तर तब्बल ५० केमिकल हे कैन्सर होण्यास कारणीभूत असतात. त्यामुळे नाहक कारणास्तव आजूबाजूंच्या जीवितास व आरोग्यास बिडी किंवा सिगारेट ओढणारी व्यक्ती धोका पोहचवत असते. अशा सेकंड हॅन्ड स्मोकिंग मुळे इतर व्यक्तीस दमा, हृदयाचे आजार तर कधी कधी कैन्सर सुद्धा होऊ शकतो.

तंबाखूच्या व तंबाखूजन्य पदार्थाच्या वापरामुळे त्या व्यक्तीचे व कुटुंबाचे खूप मोठ्या प्रमाणात आर्थिक नुकसान होत असते. तंबाखू वापरण्यावर अमाप पैसे खर्च तर होताच परंतु त्यासोबतच त्याचा कामावरतीही परिणाम होतो व त्याची उत्पादन क्षमता कमी होऊन आर्थिक वाढ खुंटते. परिणामी गरिबी वाढते, चांगले शिक्षण, चांगले आरोग्य, तसेच चांगले अन्न व चांगल्या सुविधा यापासून ती व्यक्ती व त्याचे कुटुम्बीय वंचित राहतात व त्या व्यक्तीचा व इतर कुटुंबीयांचा वैयक्तिक व आर्थिक स्तर ढासळतो. देशाचा बराच पैसा या तंबाखूमुळे होणाऱ्या आजाराच्या व आरोग्याच्या समस्येवरती खर्च होतो, उत्पादन क्षमता कमी होऊन दरडोई उत्पन्न कमी होते. यासोबतच तंबाखूच्या वापरामुळे वातावरणावरतीही वाईट परिणाम होतात. तंबाखूचा धूर व केमिकल्स हवेच्या प्रदूषणास कारणीभूत ठरते. तसेच तंबाखूच्या शेती मध्ये हि तिथे वापरले जाणारे कीटकनाशके तणनाशके यामुळे मातीचे, पाण्याचे व हवेचे प्रदूषण होते.

*काय करता येऊ शकते*
यासाठी सरकारी व वैयक्तिक दोन्ही स्तरावरती प्रयत्न होणे गरजेचे आहे. वैयक्तिक स्तरावरती जे लोक वापरत नाहीत त्यांनी आयुष्यात कधीही तंबाखू व तंबाखूजन्य पदार्थ वापरणार नाही अशी शपध घेऊन त्याप्रमाणे व्यवहार करणे गरजेचे आहे. जे लोक वापरतात त्यांनी सोडायचा प्रयत्न करणे गरजेचे आहे. गरज पडली तर त्यासाठी मनोविकारतज्ज्ञाची मदत घ्यायला हवी. जर मनोविकारतज्ज्ञाची मदत घेतली तर निम्मे लोक तंबाखू व बिडी सिगारेट वापरणे बंद करू शकतात असे निदर्शनास आले आहे. जर स्वतःहून सोडू शकत नसेल तर कौंसेलिंग व औषधउपचाराच्या साहाय्याने चांगले होऊ शकतात.

सरकारी स्तरावरती विविध नियम बनवले जाणे, त्याची काटेकोरपणे अंमलबजावणी करणे व त्या विषयी सर्वसामान्य लोकांना जन जागृत करणे व शिक्षित करणे गरजेचे आहे. तसेच तंबाखू व तंबाखूजन्य पदार्थाच्या विक्रीवरती मोठा कर (टॅक्स) लावणे गरजेचे आहे.

*सिगारेट अँड ऑदर टोबॅको प्रॉडक्ट्स ऍक्ट ( COTPA )-२००३*
१. सार्वजनिक ठिकाणी धूम्रपान करणे गुन्हा आहे. अशा ठिकाणी तेथील मालकांनी “येथे धूम्रपान करण्यास सक्त मनाई आहे” असा बोर्ड लावणे बंधनकारक आहे.
२. तंबाखू व तंबाखूजन्य पदार्थाची जाहिरात प्रसारित करणे, प्रसिद्ध करणे तसेच अशा जाहिरातीत काम करणे गुन्हा आहे.
३. १८ वर्षाखालील व्यक्तीस किंवा शैक्षणिक संस्थांच्या १०० मीटर च्या आवारात तंबाखूजन्य पदार्थ विकणे गुन्हा आहे.
४. तंबाखूजन्य पदार्थ ज्या मध्ये विकला जाईल त्यावरती मोठ्या आकारात पिक्चर वॉर्निंग असणे व लिखित वॉर्निंग असणे बंधनकारक आहे.

२००३ कॉटपा च्या कायद्यातील हे काही महत्वाचे नियम असले तरी त्याची काटेकोर अंमलबाजवणी होणे व त्याबद्धल लोकांना शिक्षित करणे हे खूप महत्वाचे आहे.

*तंबाखू किंवा सिगारेट सोडायची आहे, काय कराल ?*
१. सर्वप्रथम तंबाखू सिगारेट मुले आपल्या आयुष्यात प्रॉब्लेम निर्मण होतोय हे मान्य करा.
२. त्यामुळे होणारे शारीरिक, मानसिक, कौटुंबिक, आर्थिक, सामाजिक परिणाम लिहून काढा.
३. बंद केल्यास आपल्या आयुष्यात काय चांगले बदल घडून येतील ते लिहून काढा.
४. बंद करण्याचा दिवस ठरवा.
५. त्यासाठी कुटुंबीयांची किंवा मनोविकार तज्ज्ञाची मदत घ्या.
६ तल्लफ निर्माण करणारे ट्रिगर्स ओळखा व दूर करा.
७. हळू हळू प्रमाण कमी करत आणा व ठरवलेल्या तारखेला पूर्णपणे बंद करा.
८.ठरवलेल्या प्रमाणे कितीही तल्लफ झाली तरी घेणे टाळा, ट्रिगर्स टाळा.
९. प्रत्येक दिवशी त्यादिवशी तंबाखू / सिगारेट नाही वापरल्या बद्धल स्वतःला शाबासकी द्या.

चांगले आरोग्य निवडायचे कि तंबाखू हे आपल्या हातात आहे. आजपासूनच तंबाखू टाळा व स्वतःच्या प्रगतीमधील अडथळा दूर करा व तसेच त्यासाठी इतरांना पण मदत करा.

18740239_1740419122641032_3900213009380490227_n

डाॅ अतुल ढगे
मनोविकारतज्ञ, व्यसनमुक्तीतज्ञ व लैंगिकसमस्यातज्ञ
रत्नागिरी

जब सारे टैबू एक मेडिकल कॉलेज तक में फैले हो तब?

4a938e50ae86be20385ad15ade8b50f4

हम ऐसे समाज में रहते हैं जहाँ बोले गए शब्द के अक्षर उस शब्द की गंभीरता को निर्धारित किया करते हैं.जैसे आपने गर पब्लिकली ‘रेप’ जैसे शब्द का इस्तेमाल किया तो आपके आसपास के लोग इसे बेहद हल्के में लेंगे. इस शब्द के मायने कितने ही गंदे क्यूँ ना हों हम इस शब्द के काफी हैबीचुअल हो चुके हैं.वही दूसरी ओर अगर आपने ‘बलात्कार’ शब्द ५ लोगों के सामने भी बोल दिया तो पांचो लोग आपको टेढ़ी नजर से देखेंगे.जैसे ‘रेप’ बोलना ‘बलात्कार’ का मोर्डन फॉर्म हो गया हो.या रेप बोलने से वो कुकृत्य अपना घतियापना खो देता हो.ठीक ऐसे ही आप मेंसट्रूएशन को ले लीजिये.
आपके इस शब्द बोलने की देर होगी बस आप फिर लाइम लाइट में आ जायेंगे.ऐसे शब्द जो की कमसकम प्राक्रतिक हैं उनको बोलने में हम सकुचा जा जाते हैं जिनके मात्र उच्चारण से सारी सामाजिकता और प्रतिष्ठा खो जाती है. जाने कैसे समाज में रह रहे हैं हम.ऐसा ही एक और शब्द है.’मास्टरबेशन’इसे हम समाज में फैले एड्स के जैसे समझे तो वो इस शब्द के साथ न्यायसंगत होगा.खैर इस टैबूस के बारे समाज की बात करना “हरि अनन्त हरि कथा अनंता” सा हो जाएगा.
पर जब ये सारे टैबू एक मेडिकल कॉलेज तक में फैले हो तब?

मैं एक मेडिकल कॉलेज में पढ़ रहीं हूँ..मेडिकल कॉलेज जहाँ इंसानी शरीर को पढ़ा जाता है समझा जाता है.जहाँ इंसानी शरीर से जुड़े हर एक पहलु पर बात होती है.चाहे वो MENSTRUATION हो या फिर MASTURBATION.पर बदकिस्मती से ये सिर्फ मेरी सोच में था.जितना मैं समझा करती थी की मेडिकल कॉलेज और मेडिकोस टेबूज से जुड़े हर मुद्दे में फ्री थिंकिंग वाले होते होंगे. मैंने उतना ही इन्हें नीचे सोचते देखा है.लड़कियों के जीन्स पहनने से लेकर उनके चार लोगों के सामने मास्टरबेशन बोलने तक..हाँ ये अब भी उतने ही बड़े टैबूज़ हैं जितना आम तबके के लिए हैं.

Nepal: Protecting Futures
हम अपनी हर समस्या एक डॉक्टर से खुल कर कहने के लिए कहा करते हैं. पर जब खुल कर बात करने की बात आती है तो हम पीछे आ जाते हैं.जहाँ हम उस इंसान जैसा बर्ताव करते हैं जो की बस कुछ ज्यादा न जान कर भी इन सब टैबू को फॉलो करता है.मेरे कॉलेज के एक प्रोफेसर ने मुझे बेहूदी कहा क्यूँ कहा क्यूंकि मैंने उनके सामने मास्टरबेशन जैसे गिरे हुए शब्द का इस्तेमाल कर दिया.
मेरे बैच और मेरे सीनियर बैच की आपस में कभी नहीं बन पायी. बात जो भी रही हो बस कोई केमिस्ट्री टाइप का वर्ड हम लोगों के बीच एक्सिस्ट नहीं कर पाता था..मैटर ये हुआ की एक जूनियर की पोस्ट पर सीनियर भड़क गए.
और मैंने उस चिंगारी को शांत करने की जगह हवा दे दी.’सच को एक्सेप्ट करने का साहस होना चाहिए’ इस बात को ले कर वे इतना तुनक गए की करीब 1 महीने बाद होने वाले एनुअल फंक्शन में उन्होंने ने मेरे बहिष्कार की मांग कर दी.
इससे पहले कुछ और होता उन्होंने मेरे एक फेसबुक पोस्ट से ओफेंड होने का हवाला दिया. खैर.
मैंने इस बारे में जब अपने प्रोफेसर से  बात की तो उन्होंने मुझे ऊँगली दिखाते कहा सारा कुछ रोड़ा सिर्फ इस लड़की की वजह से हो रहा है.
मैंने सीनियर्स से रिलेटेड न कोई पोस्ट डाली फिर भी सारी चीज़ें मेरे ऊपर आ गयी. क्यूंकि मैंने उन्हें बस ये कह दिया की सच स्वीकारने का साहस डालो
इसके बाद सर ने मुझसे कहा “और किस तरह की पोस्ट्स तुम फेसबुक में डाल रही हो? ये grow up और बाकी सब वो क्या है?” मैंने सर को समझाया की सर मेरी इस कॉलेज से अलग भी एक ज़िन्दगी है. मेरे पास और भी लोग हैं. मैं कुछ भी पोस्ट कर रही हूँ तो वो अपनी समझ से कर रही हूँ.
इस पर सर और भड़क गए.
कोई  पागल नहीं है.
तुम्ही बस होशियार नहीं हो.
इसके बाद जब मुझसे बरदाश्त नहीं हुआ तो मैंने बस एक लाइन कही “सर कल को मैं मास्टरबेशन में लिखूंगी तब भी ये सीनियर्स अपने ऊपर ही लेंगे क्या?”
बस सारी संस्कृति सारा अनुशासन मैंने एक सेकंड में तबाह कर दिया.बस फिर तो सर जिस तरीके से मुझे बेहूदी कहने लगे. मैं कितना गुस्सा महसूस कर रही थी वो बस मैं ही जानती हूँ.
एक डॉक्टर से इस तरह के रेस्पोंस की उम्मीद कतई नहीं थी मुझे.
बाद में जब मीटिंग हुई तब मुझे बीच में खड़ा किया गया..
मेरे पीछे मेरे बैच वाले थे और आगे सर और सीनियर्स हर तीसरी बात पर वो मुझे धमकी देते की  बताऊँ किस तरह के शब्द तुमने इस्तेमाल किये.
जी तो कर रहा था की बोल दूँ सर बता दीजिये,
पर मेरे पीछे से मेरे बैच वाले मुझे हाँथ दबा कर मना कर देते.
जिस तरीके से सीनियर्स मुझे देख रहे थे ये समझ तो आ गया था की सर ने मेरे ‘बेहूदा’ शब्द को उन्हें बता दिया है.पर फिर भी वो मुझे बार बार ब्लैकमेल करने से चूक नहीं रहे थे.
एनुअल फेस्टिवल के कारण ये सब जो प्रोग्राम हो रहा था हमारे सीनियर्स ने एक शर्त में ये सब शांती से करवाने की बात कही.
अगर मेरे बैच वाले एनुअल फेस्टिवल के दौरान मेरा बायकाट करेंगे तो. और ये बायकाट सिर्फ इसलिए क्यूंकि मैंने अव्वल उन्हें सच स्वीकारने का साहस होना चाहिए कह दिया और दूसरा की मैंने एक रेपोटेटेड मेडिकल ऑफिसर के सामने ‘मास्टरबेशन’ जैसे गिरे शब्द का इस्तेमाल कर दिया.

हम सभी डेवलपमेंट की बात किया करते हैं.. सामजिक मानसिक और ना जाने क्या क्या…. पर ये सिर्फ कागजी दिखता है. हम रूरल से भले ही अर्बन क्यूँ न हो गए हो हम अब भी उसी रूरल सोच से बिलोंग करते हैं.

बात बस इतनी सी है!!!

आस्था पठक

15894668_1261356293957243_5746796690943818408_n.jpg

ऑक्जीटोसिनम स्व:

तर पोरांनो, आजच्या पाठात आपण शिकणार आहोत आपल्या सर्वात लाडक्या आणि महत्वाच्या हॉर्मोनबद्दल, म्हणजेच आपला ‘लव हॉर्मोन’ – Oxytocin

खरं तर हे ‘हॉर्मोन’ फिमेल हॉर्मोनच जास्त आहे, आणि त्यात काहीही आश्चर्य नाही. कारण बायका म्हणजे ‘भावनांची’ एक ग्यालक्सीच असते आणि त्या भावना तयार करायचं काम हे हॉर्मोन करतात.तुमची ‘बाय’ चिडली, तर दोष कोणाला द्यायचा – हॉर्मोनलातुमची ‘बाय’ हसली, तर दोष कोणाला द्यायचा – हॉर्मोनला … तर सगळा उपद्व्याप हे हॉर्मोन करतात यार आणि आपण नावं ठेवतो बायकांना.

आता Oxytocin शरीरात तयार कधी होतं, तर ‘ग्यानबा-तुकाराम’ झाल्यावर (प्रामुख्याने). ‘आया नया उजाला, दो बुंदोवाला’ … म्हणजे बायकांना ‘दो बुंद सफेदी के’ मिळाले की बायका खुश. का खुश ? कारण Oxytocin येतो ना लगेच, हा खेळवत ठेवतो बायकांना गोडीगुलाबीने. ‘आलेलेलेले’ करत बायकांचा स्ट्रेस, डोकेदुखी, अंगदुखी वगैरे वगैरे सगळ्यांना ‘डीशुम डीशुम’ करतो. ( तसं ते पुरुषांना पण मदत करतं ) म्हणजे सेक्स झाल्यानंतर (काम झाल्यावर 😉 ) देखील दोन शरीर एकमेकांत घुसळत राहतात, त्याचं श्रेय ओन्ली Oxytocin हॉर्मोनला.ये जोडने का काम करता है रे … Orgasm उपभोगायचं कारण काय, तर हे Oxytocin हॉर्मोन.

त्वचेचा त्वचेला होणाऱ्या स्पर्शामुळे, Oxytocin बाहेर पडतं.मसाज केल्यावर बरं का वाटतं, तर Oxytocin हॉर्मोन.
म्हणून सांगतो, माणसाने नेहमी नागडं झोपावं.( पुरुषांसाठी टीप – भुकेली मांजर घरात असेल तर एक्सट्रा काळजी घ्यावी हां 😜)पण यांचं महत्वाचं काम काय असतं ते लेडीजांमध्ये, बाळाला जन्म देताना आणि दुध पाजताना.

images-1

 

Oxytocin चा सर्वात जास्त प्रताप हा मुल जन्माला घालताना आढळतो. आणि त्या मागोमाग आपल्या लहानग्याला दुध पाजताना.Oxytocin हॉर्मोनच्या कृपेमुळे मुल जन्माला येताना ‘गर्भाशय’ आकुंचन पावतं. आणि जेव्हा मुल स्तनपान करतं तेव्हा Oxytocin हॉर्मोनमुळे मिल्कची डिलीवरी होते. जाहीर आहे, ज्यांच्या शरीरात पुरेसं Oxytocin हॉर्मोन नसणं, हे दुध येण्यासाठी त्रासदायक ठरतं.
काही बायकांमध्ये आपल्या बाळाच्या नुसत्या आवाजाने किंवा आठवणीने दुध यायला लागतं… (पान्हा फुटणे म्हणतात का त्याला ? )त्यात मेंदू काही कारणानिमित्ताने अतिसेंसेटीव झालेला असतो. ते एक प्रकारचं ‘हॉर्मोनकन्फ्युजन’ असतं. वायरिंगचा प्रॉब्लेम.

एक प्रयोग केला गेला, एका फिमेल प्राण्याला जी आई नाही, तिला बाहेरून Oxytocin हॉर्मोन देण्यात आले, तर असं आढळलं की ती दुसऱ्याच्या पिल्लांसोबत आपल्या पिल्लांसारखीच वागू लागली, त्यांना जीव लावू लागली … वगैरे.
थोडक्यात, हा हॉर्मोन जीव लावतो.

हे हॉर्मोन तसं लाजाळू आहे, ते सगळ्यांसमोर येत नाही. म्हणूनच सेक्स, ब्रेस्ट फीडिंग किंवा मुलाला जन्म देणं हे प्रत्येक प्राणी एकांतात करतो. कारण कोणी आपल्याला पाहतंय, त्याची उत्क्रांतीपासून चालत आलेली रक्षणार्थ असलेली भीती, Oxytocin निर्माण करण्याला बाधा आणतात. म्हणूनच सब कुछ चार दिवार के अंदर. कारण स्ट्रेस हॉर्मोन आणि Oxytocin हॉर्मोन या दोघांचं वाकडं आहे. दे आर लाईक दिवस आणि रात्र. एकाचवेळी दोघं असू शकत नाहीत. त्यामुळे स्ट्रेस हॉर्मोन, Oxytocin ला ब्लॉक करून ठेवतात.

तुमची ‘बाय’ जर सेक्स उपभोगत नसेल आणि नुसतीच मुडद्यासारखी पडून राहिली असेल तर त्याचं कारण काय, हे हे हे स्ट्रेस हॉर्मोन.
म्हणूनच माझं असं मत आहे की, सेक्स पूर्णपणे उपभोगण्यासाठी तुमच्याकडे ‘आर्थिक’ स्थैर्य हे सर्वात महत्वाचं असतं. (मानसिक देखील)

oxytocin मध्ये असतात ऑक्सिजनचे १२ रेणू. त्यामुळे आपण जेव्हा शांतपणे श्वासोच्छवास करतो, आपल्याला जास्त Relax वाटतं.शरीरात Oxytocin कमी असण्याचा तोटा हा ‘मेंदूला’ होतो. Autism, schizophrenia सारखे मेंदूसंदर्भात असणारे रोग हे Oxytocin कमी असण्यामुळे होतात.यापुढे पोरांनी पोरी पटवताना सरळ सांगावं,
“प्रिये, चल दोघं मिळून Oxytocin तयार करू…. तुझ्यासाठी काहीही, कधीही, कुठेही …. फक्त तुझ्यासाठी”
मिठी मारली तरी काम होतंय…. नायतर त्यांचाच लॉस,आपल्याला काय …. हाय काय अन नाय काय. 😜

– इति ‘बाबा लपक-झपक हॉर्मोनवाले

images-2

By

Mangesh Sapkal

http://www.mangunangu.com/

Empowerment या Objectification?

 

images-1

कोई औरत क्या पहनती है इस वजह से किसी का कोई हक नहीं बनता उसके साथ बदतमीजी करने का लेकिन कपड़ा हो या व्यवहार हर चीज में एक बैलेंस जरूरी है। अब एक ऐसा ग्रुप आ गया है जोकि बैलेंस की बात नहीं करता। उन्हें बिलकुल नहीं दिख रहा कि समाज में आया नंगापन आजादी या empowerment जैसी बातों से कोसो दूर हैं।

1. जो औरते कहती है कि उनको कपड़ो की लम्बाइ पर जज नहीं किया जा सकता उनसे एक सवाल,”क्या सच में आप अपने पहनावे और लुक्स पर जज नहीं होना चाहती हैं?” अगर नहीं होना चाहती तो अकेले घर पर भी नए कपड़ो में सज-संवर कर बैठी होती आप। चाहे लड़का हो या लड़की सभी अपने कपड़ो और लुक्स पर जज किये जाने का ध्यान रखते हैं,इसीलिए ये सारा आडम्बर इंसान तभी करता नजर आता है जब उसे बाहर लोगों को इम्प्रेस करना हो। ये मेरी भी सच्चाई है और आपकी भी। सॉरी मैं इस बात को नहीं मान सकती की चार इंच की हील और न्यू इयर की ठण्ड में शार्ट ड्रेसेज आपने सुविधा के हिसाब से पहना था। हाँ मैं यह जरूर मानती हूँ कि हर इंसान को खुद को सुंदर दिखाने का हक है, पर कम से कम झूठ मत बोलिये कि आप जज नहीं होना चाहती या चाहते।

2.अब करते हैं नंगे लड़को की बात। जब एक किसान अधनंगा बदन खेत में हल चला रहा होता है तो वह खुद को ऑब्जेक्टीफाइ नहीं कर रहा होता लेकिन जब रणबीर कपूर पर्दे पर नंगा होता है तो उसकी नियत ही खुद को ऑब्जेक्टीफाइ करने की होती है ठीक उसी तरह जैसे तमाम हीरोइनों की होती है। नंगेपन के पीछे भी दो अलग नियत होती हैं। मुझे बहुत अच्छी लगती है वो औरते जो बिना अंडरआर्म्स के बाल साफ़ किये, थुल- थुले बदन के साथ नंगा होने कि हिम्मत रखती हैं। लेकिन इन औरतों का प्रतिशत क्या है??? 0.1% शायद।

images

बाकी की औरते इतनी बॉडी-शेमिंग की शिकार है कि सिर्फ उन्हीं अंगो का प्रदर्शन करना पसन्द करती है जो देखने वाले को सुंदर लगे।इसीलिए गांव के चापाकल पर नहाती औरतों के नंगेपन को मैं सपोर्ट कर सकती हूँ पर सनी लियोने के नंगेपन को नहीं। आज एक नई पीढ़ी उभरी है जिसको नंगापन आजादी का प्रतीक लगता है पर इस आजादी को लेने से पहले वो बिकनी बॉडी बनाएंगी और फूल-बॉडी वैक्सिंग करवाएंगी और ऐसी सोच वाले लड़के जब तक तोंद को सिक्स पैक एब्स में कन्वर्ट नहीं करेंगे और शीशे की तरह चमकने तक शरीर पर तेल नहीं मलेंगे तब तक बीच पर शर्ट उतारने की हिम्मत नहीं करेंगे।

3.ईमानदारी से बताइयेगा जब आप घर से बाहर निकलती हैं तो लड़के आपको किन कपड़ो में दीखते हैं?
शर्ट-पैंट, कुरता-पजामा आदि जोकि ऊपर से निचे तक ढका होता है।दिल्ली की सड़क पर आपको शायद ही कोई लड़का नजर आएगा जो लड़कियों जितने अंग-प्रदर्शन कर रहा होता हैं।जब मैं सड़क पर निकलती हूँ या किसी क्लब ही जाती हूँ तो वहां मुझे लड़के पुरे कपड़े में मिलते है, पर लड़कियां नहीं। अगर एक पुरे जेंडर की चॉइस आजादी के नाम पर कम कपड़े हैं तो मुझे यह बात थोड़ी कम समझ आती है कि इसके पीछे खुद को ऑब्जेक्टीफाइ करने के अलावा और क्या कारण है।

4. एक तर्क यह आता है कि मैं चेहरा दिखाऊं या स्तन दोनों ही शरीर के अंग है।फिर एक सवाल, कोई opposite gender का इंसान आप से हाथ मिलाये तो वो acceptable है लेकिन शरीर के कुछ और अंगो को छु दे तो वह गलत क्यू हो जाता हैं?? मान लिया उसने आपकी मर्जी से नहीं छुआ इसीलिये गुस्सा आया तो लीजिये 2nd situation- कोई बिना मर्जी के आपके हाथ छुएगा तो आपको ज्यादा गुस्सा आएगा या आपके प्राइवेट पार्ट पर हाथ डालेगा तो ज्यादा गुस्सा आयेगा?? दोनों ही शरीर के अंग है ना??

पहले बाजारवाद ने अपने फायदे के लिए सिर्फ लड़कियों को टारगेट किया था। आज इसकी चंगुल में लड़के भी हैं जिसका नतीजा है हर साल बढ़ता जाने वाला मेल ब्यूटी इंडस्ट्री। Infact ये बच्चों को भी ऑब्जेक्टीफाइ करने की पूरी कोशिश कर रहे है और यह पूरी दुनिया के लिए खतरनाक हैं।
औरतों आपको यह प्रश्न खुद से पूछना पड़ेगा कि हमें ही आजादी के लिए छोटे कपड़े क्यू चाहिये मर्दों को क्यू नहीं?? फेंक दो उठा कर घूंघट और बुर्का पर उन से निकल कर एक ग्लैमरस जाल में मत फसों जो सिर्फ बाजारवाद का फैलाया हुआ हैं।

नोट- I know यह लिखने के बाद मैं गंवार, बेवकूफ और जाहिल anti-woman नजर आऊँगी कइयों को; but seriously I am not interested in your modern विचार।

15871097_1769277030066175_1943381004_n

Megha Maitrey: A psychology student from Bihar.., doing my graduation..a writer in making..and a thinker!

आज का feminism आंदोलन

मेरी एक दोस्त है, बेहद खूबसूरत, सलीकेदार और अच्छे घर से।जब इसने कॉलेज में एंट्री ली तो क्लास के 80% लड़कों का दिल इस पर आ गया और, इसका क्लास के ही एक लड़के पर।इसकी चॉइस पर हम दोस्तों ने पड़ोस की आंटी टाइप नाक-मुँह सिकोड़ा, कभी दबी जबान में तो कभी ढीठता से इस रिश्तें का विरोध किया लेकिन फिर मामले की गम्भीरता देखते हुए आपस में एक- दूसरे को ढांढस दिया कि शायद लड़का उतना भी बेहुदा ना हो जितना हमें लगता हैं।

बहरहाल दोस्त ने अपने माता-पिता को अपने प्यार के बारे में बताया और नगाड़े के चोट पर ऐलान कर दिया की शादी करेगी तो बस इसी लड़के से।हरयाणा का ऐसा गाँव जहां इज्जत के नाम पर पहले ही दो -तीन हत्याएं हो चुकी हो , ऐसे में एक लड़की अपने घर पर ऐसा प्रस्ताव लेकर पहुंच जाए तो यह शेर की आंख में ऊँगली करने जैसा काम होता है, जिसे मूंछों पर ताव देकर चलने वाले लड़के भी दूर से प्रणाम करते हैं। उसकी हिम्मत देख कर हम सब दण्डवत हो गए।माँ-बाप ने लाड़-प्यार की वर्षा करते हुए उसके फैसले को बदलने की कोशिश की फिर जब बात नहीं बनी तो एक पूरा दौर चला जब उसकी पिटाई करने के बाद उसके पैरेंट्स हम दोस्तों के पास खुद रोते हुए फोन करते थे मदद की गुहार लिए। लेकिन फिर हार कर होने वाले दामाद को दिल ना सही, दिमागी रूप से अपना लिया। लड़के के घर वाले खुश थे।सबको मालूम था और उन्हें भी, कि यह जोड़ी कितनी बेमेल थी।

15822720_10154823949677744_8895871054699906430_n

अचानक कुछ बदलने लगा। वह लड़की जो अपने माता-पिता, रिश्तेदार और हम दोस्तों के सामने आँख तरेर कर बोल गयी थी कि उसकी जिंदगी के फैसले उसके होंगे, अब फेसबुक और इंस्टाग्राम से अपने फ़ोटो हटाने लगी। अब उसके शाट्स की जगह जीन्स और कुर्ती लेने लगे।कुछ दिनों में पता चला की भावी सास-ससुर का एक फरमान यह हैं की उन्हें काम-काजी बहूँ नहीं चाहिए।इसने “जी आंटी” कह कर सर हिला दिया। इस पूरी घटना को देखकर मुझे एक बात समझ आई,”हक के लिए लड़ना और जिद के लिए लड़ना दो अलग-अलग बातें होती हैं।” ऐसी तमाम उदाहरण हैं जिसमें लड़की माँ-बाप से लड़ जाती है और हम उसे सशक्तिकरण का रूप मान लेते हैं, लेकिन अपने पति या ससुराल वालों के बेतुके फैसले के सामने उनकी आवाज नहीं निकलती। आज पूरी दुनिया में फेमिनिज्म आंदोलन कुछ इस प्रकार के हो गए है,”फ्री द निप्पल”, “फ्री सेक्स”, “कपड़े की आजादी”, “खुल कर सिगरेट पीने की आजादी” और न जाने क्या- क्या..शायद इनका अपना एक सिम्बोलिक महत्व हो पर मुझे ऐसे ज्यादातर आंदोलन महत्वहीन लगते है। महिलाओं को बस एक चीज के लिए आंदोलन करने की जरूरत थी- equality in education and job. हालाँकि इसके लिए भी कुछ जीवट औरतें लड़ती है पर स्वाभाविक रूप से सेक्स और निप्पल जैसे शब्दों के आगे यह आंदोलन छुप जाता हैं। औरतें गाय नहीं है यह कोई किताबी बात नहीं, आपको अपने आस-पास घर-परिवार से लड़ती औरतें आराम से मिल जाएंगी।औरतें लड़ नहीं सकती, यह बात फालतू है।मुझे लगता हैं जब हम औरतें लड़ती हैं तो आस-पास के पुरुष थर्राते हैं।जमाना ही लड़ाई का है , पर सही दिशा में लड़ती औरतें शायद ही दिखेंगी।इतिहास देखे तो आदि काल में औरतें भी पुरुषों की तरह ही नंगी घुमा करती थी, शिकार करती थी और तमाम चीजों में बराबर भी थी पर धीरे-धीरे उनके सारे हक उनसे छीनते गये और इसकी मुख्य वजह थी आर्थिक आजादी पुरुषों के हाथ में जाना।

पुरुषों को कभी कपड़े और शराब के लिए आंदोलन नहीं करना पड़ा, उन्होंने बस खुद को आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर किया और तमाम आजादी पर उनका हक खुद-ब-खुद कायम होता गया।गृहणी बनना या ना बनना एक औरत का अपना फैसला होना चाहिए पर खुद को उस लायक ना बना पाना कि जरूरत पड़ने पर अपना और अपने परिवार का खर्च चलाया जा सके, यह किसी भी महिला के लिए खतरनाक है।मर्दवादी सोच से टकराने का आत्मबल तब तक बिल्कुल नहीं आ सकता जबतक औरत अपनी बेसिक जरूरतों के लिए भी मर्द पर आश्रित है इसलिए तमाम आजादी के आंदोलन फिजूल हैं जब तक औरतें आर्थिक रूप से आजाद नहीं होंगी। आज हमारे देश में वो लड़कियां जो कपड़ो के लिए लड़ लेती हैं, जिन्हें पढ़ने-लिखने का मौका मिला हैं वो भी मेहनत कर के पैसे कमाने के बजाय पिता के पैसों पर एक अच्छा कमाने वाला लड़का ढूँढना ज्यादा पसंद करती हैं।बीटेक करके एक लड़का जॉब ढूंढ रहा होता है और लड़की एमटेक वाला लड़का।जब तक इस परजीवी मानसिकता से छुटकारा नहीं मिलेगा, औरतें बस इधर-उधर ही लड़ती रहेंगी क्यूकी इधर -उधर वाली लड़ाई आसान हैं।उसमें किताब खोल कर माथापच्ची नहीं करनी पड़ती, कारखाने में आठ घण्टे पसीना नहीं बहाना पड़ता और ग्लैमर भी ज्यादा हैं।

15871097_1769277030066175_1943381004_n

Megha Maitrey: A psychology student from Bihar.., doing my graduation..a writer in making..and a thinker!

Hymen Flower - ThatMate

Myths around Hymen!

Medically speaking, the hymen (derived from the Greek word for “membrane,” but not to be confused with Greek god of marriage) is more accurately referred to as the vaginal corona. Hymenoplasty surgery or reconstruction of the fabled “virginity” in women is on the rise in India. However offensive and patriarchal this may sound many women willingly or unwillingly go for this surgery so as to prove their grooms about their virginity and purity. However here are some facts about hymen to clarify your doubts which are based upon some urban legends.

What is Hymen?

hymen-picture-diagram

rebirth-surgery-of-hymen-image-1

It’s a little membrane that partially surrounds the external vaginal opening, and some girls are born without it!!! Yeah,it’s true and it is not uncommon to be born without a hymen, so don’t be afraid as to         you won’t face any health related problems because of absence of hymen.

Hymen gets torn it does not “break” or “pop”

Contrary to popular belief only upon penetration there would be through perforation of hymen and there is bleeding the hymen is like just other membrane of body it gets           torn in numerous ways, like from doing exercise or by simply cleansing it.

Bloody Sheets

 It is a common misconception that bleeding during first intercourse means the woman is  a virgin, However the bleeding may occur due various factors like improper lubrication, rough sex and anxiety as it         commonly said that first time sex is supposed to hurt.

One of the reasons hymen exists

In the womb, it is said that the hymen potentially serves as a protective barrier from germs and bacteria, but aside from that, scientists have yet to identify any significant physiological functions of the vaginal corona.

Imperforate Hymen

 Around 0.5% of female population have imperforate hymen which is not penetrated by use of tampons or sometimes even by penis. In these cases the hymens are surgically “snipped away”! Hence it         is kind of ironic that some women go for hymenoplasty surgery.

Bottom line is that it does not matter whether hymen is intact or not, all that matters is clearing your minds from the urban legends and from knowing the half truths.

1_1456822130

Dr. Sangram Jadhav

B.H.M.S